DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नौसेना के चार जंगी पोत चीन की ओर रवाना!

गत नौ मार्च को दक्षिण चीन सागर में चीन और अमेरिकी नौसेनाओं के बीच तनातनी की घटना के बीच शुक्रवार को भारतीय नौसना के चार जंगी जहाज कूटनीतिक मैत्री अभियान पर चीन के लिए रवाना हो गए। चीनी नौसेना पहली बार अंतरराष्ट्रीय बेड़ा निरीक्षण का कार्यक्रम आयोजित कर रही है जिसमें भारत समेत 27 देशों की नौसेनाओं को आमंत्रित किया गया है। इस समारोह में पाकिस्तानी नौसेना के भी दो पोत शामिल होने की खबर है। नौसेना के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया कि भारतीय पोत चीनी नौसेना अड्डे छिंगदाओ में 20 से 24 अप्रैल तक रहेंगे। हालांकि भारतीय तट रक्षक बल और नौसेना पोतों के साथ चीनी नौसेना के कुछ सामान्य अभ्यास हो चुके हैं लेकिन फ्लीट रिव्यू जसे चीन के अंतरराष्ट्रीय समारोह में भी भारतीय नौसेना शामिल हो रही है। सूत्रों के मुताबिक नौसेना के दो गाइडेड मिसाइल विध्वसंक आईएनएस मुंबई और आईएनएस रणवीर, एक गाइडेड मिसाइल फ्रि गेट आईएनएस खंजर और एक तेल टैंकर आईएनएस ज्योति शुक्रवार को पूर्व की ओर 1मई तक तैनाती के लिए रवाना हुए। चीन जाते हुए और वापसी में भारतीय पोत मित्र देशों की नौसेनाओं के साथ कुछ पूर्व निर्धारित अभ्यासों और कुछ यात्रा के दौरान सामान्य अभ्यासों में भाग लेंगे तथा बंदरगाहों की सद्भावना यात्रा करंगे। भारतीय पोत सिंगापुर, फिलिपींस, वियतनाम, दक्षिण कोरिया और इंड़ोनेशिया की नौसेनाओं के साथ भी दोस्ताना अभ्यास करंगे। भारत और चीन के बीच मई 2006 में एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर हुए थे जिसके तहत दोनों देशों की सेनाओं के बीच सैन्य अभ्यास किए जाते हैं। साथ ही दोनों देशों की सेनाएं आतंकवाद और समुद्री लुटेरों की समस्या से निपटने तथा बचाव कार्य में भी सहयोग कर रहे हैं। भारतीय थल सेना और चीनी सेना के बीच पहला अभ्यास चीन के युन्नान प्रांत के कुनिमग में 2007 में और भारत में बलगाम (कर्नाटक) में गत वर्ष दिसंबर में हुआ था। पिछले साल ही चीन में भारतीय वायुसेना के सूर्य किरण विमानों की टीम भी अपने शानदार करतब दिखा चुकी है। दोनों देशों की नौसेनाओं के पोत भी एक दूसर के बंदरगाहों की सद्भावना यात्रा करते रहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: नौसेना के चार जंगी पोत चीन की ओर रवाना!