अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कभी रहे हमसफर, अब मुकाबिल

गोण्डा के चुनावी मैदान में दो चेहरे ऐसे हैं जो पिछले चुनाव में एक ही पार्टी के टिकट पर लड़ कर जीते और संसद में एक पाले में बैठे थे। इस बार अलग-अलग पार्टियों की ओर से आमने-सामने हैं। ये हैं कांग्रेस प्रत्याशी बेनी प्रसाद वर्मा व बसपा प्रत्याशी कीर्तिवर्धन सिंह। बेनी प्रसाद वर्मा कैसरगंज से सपा के टिकट पर सांसद चुने गए थे वहीं कीर्तिवर्धन सपा के टिकट पर गोण्डा से। गोण्डा के मैदान में अबकी बेनी कांग्रेस के टिकट पर और कीतिवर्धन बसपा के टिकट पर आमने-सामने हैं। देवीपाटन मण्डल में चार संसदीय सीट हैं। इनमें से एक सांसद को छोड़कर तीन इस बार पाला बदल कर दूसर दलों के टिकट पर लड़ रहे हैं। सपा के टिकट पर श्रावस्ती संसदीय सीट से चुनाव लड़ रही रूवाबा साइदा ही एक मात्र ऐसी प्रत्याशी हैं जो समाजवादी पार्टी के टिकट पर ही चुनाव लड़ रही हैं। हालाँकि 14वीं लोकसभा में उन्हें बहराइच से लोकसभा में नुमाइन्दगी का मौका मिला। परिसीमन से हुए बदलाव के बाद अब वह श्रावस्ती संसदीय सीट से उम्मीदवार हैं। देवीपाटन मण्डल से लोकसभा के बाकी तीन सदस्य बेनी प्रसाद वर्मा, कीर्तिवर्धन सिंह व बृजभूषण शरण सिंह अन्य दल से चुनाव निशान पर किस्मत आजमा रहे हैं। भाजपा के टिकट पर बलरामपुर से चुने गए बृजभूषण शरण सिंह अब कैसरगंज सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार हैं। वह क्षेत्र में साइकिल निशान पर वोट माँग रहे हैं। एटमी करार के मौके पर वह सपा में शामिल हो गए थे। उन्हें पार्टी ने कैसरगंज से उम्मीदवार बनाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कभी रहे हमसफर, अब मुकाबिल