DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना कार्रवाई के बातचीत संभव नहीं : कृष्णा

बिना कार्रवाई के बातचीत संभव नहीं : कृष्णा

समग्र वार्ता के निलंबन के लिए पाकिस्तान को दोष देते हुए भारत ने स्पष्ट कर दिया कि बातचीत तब तक दोबारा शुरू नहीं होगी, जब तक पाकिस्तान भारत को यह तसल्ली नहीं दे देता कि वह मुंबई आतंकी हमलों की साजिश रचने वालों के खिलाफ संजीदगी से कार्रवाई कर रहा है।

विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने पाकिस्तान के इस दावे को खारिज कर दिया कि उसे दिया गया छठा डोजियर पिछले डोजियर का दोहराव मात्र है। कृष्णा ने कहा कि मुंबई हमले की साजिश रचने वालों को सजा देने के लिए पाकिस्तान के पास पर्याप्त सबूत हैं।

उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि विधि विशेषज्ञों के अनुसार हमने पाकिस्तान को जो छह डोजियर दिए हैं उनमें हमले की साजिश रचने वालों, उन्हें शह देने वालों और अंजाम तक पहुंचाने वालों को कानून के तहत सजा देने के लिए पर्याप्त सुबूत हैं।

उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान भारत अथवा मुंबई पर हमलों के लिए जिम्मेदार लोगों को सजा देने के लिए उनके खिलाफ कानूनी कदम उठाने के प्रति गंभीर है तो उसके लिए भारत और पूरी दुनिया को यह दिखाने का सही मौका है कि वह इस दिशा में गंभीर है।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के इस बयान पर कि भारत बातचीत को दोबारा शुरू करने की दिशा में पेशकदमी नहीं कर रहा, कृष्णा ने कहा कि मुंबई हमलों से पहले भारत पाकिस्तान के साथ बड़ी खुशी से बातचीत जारी रखे हुए था, लेकिन इन हमलों के बाद समग्र वार्ता अस्थायी तौर पर रूक गई।

उन्होंने कहा कि तो मुझे लगता है कि समग्र वार्ता के निलंबन के लिए पाकिस्तान को खुद को ही जिम्मेदार मानना होगा और समग्र वार्ता दोबारा शुरू करने के लिए भारत की जो जरूरत है उसे पूरा करने की पहल भी पाकिस्तान को ही करनी होगी।

मुंबई आतंकी हमले के मामले में सरकार के भावी कदमों के बारे में पूछे जने पर कृष्णा ने कहा,    भारत को इस मामले पर पाकिस्तान के साथ बहुत धैर्य से काम लेना होगा। उन्होंने कहा कि भारत इस बात का इंतजर कर रहा है कि विभिन्न मौकों और विभिन्न मंचों पर उसने जो वायदे किए हैं, उन्हें वह पूरा करे । अगर उसे कोई दिक्कत है तो उसे इसके बारे में बताना चाहिए ताकि हम उसकी मदद कर सकें।

उन्होंने कहा कि भारत ने पाकिस्तान को मुंबई पर हमले में शामिल लोगों के नाम और अन्य ब्यौरा दे दिया है। अब जहिर है कि पाकिस्तान को उन्हें गिरफ्तार करना चाहिए और उनके खिलाफ कानून के अनुसार कार्रवाई करनी चाहिए। चूंकि पाकिस्तान यह स्वीकार कर चुका है कि मुंबई का हमला उसकी धरती से उसके नागरिकों द्वारा अंजाम दिया गया, इसलिए उसके पास इस संबंध में सुबूत होने चाहिएं, जिसके आधार पर उसे आगे कार्रवाई करनी चाहिए।

भारत का कहना है कि वह इस संबंध में तमाम जरूरी सूचना मुहैया करवाकर पाकिस्तान की मदद भर कर सकता है। कृष्णा ने कहा कि अब भारत पाकिस्तान को इस संबंध में उठाए जने वाले तार्किक अनुवर्ती कदमों की जनकारी देता रहेगा और हमें उम्मीद है कि ऐसा होगा। एक सवाल के जवाब में कृष्णा ने कहा कि भारत को इस बात की पूरी जनकारी है कि पाकिस्तान क्षेत्र में आतंक का धुरी है। यह बात पाकिस्तान और मित्र देशों के जहन में लाई जा चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना कार्रवाई के बातचीत संभव नहीं : कृष्णा