अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्रवाई नहीं, दरी पर ही दी परीक्षा

एफएनएस एकेडमी, गुलजारबाग में इंटर के परीक्षार्थियों ने लगातार दूसर दिन शनिवार को भी दरी पर ही बैठकर परीक्षा दी। परीक्षा समिति के आदेश के बावजूद वहां बैठने की व्यवस्था नहीं की जा सकी। उधर, दरी पर बैठकर परीक्षा देने को विवश छात्रों की समस्याएं जानने के लिए समिति के अध्यक्ष खुद ही पहुंचे। समिति ने एक बार फिर जिला प्रशासन को आवश्यक कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। स्थिति चाहें जैसी भी हो, छात्रों को परीक्षा देनी है। समिति का भी मानना है कि इस परीक्षा केंद्र पर क्षमता से लगभग दोगुने छात्रों का आवंटन किया गया है। इसी कारण ऐसी समस्या आई है। शुक्रवार को छात्रों के दरी पर बैठाकर परीक्षा लेने की शिकायत मिलने के बाद केंद्र का निरीक्षण करने शनिवार को स्वयं अध्यक्ष प्रो. एकेपी यादव पहुंचे। छात्रों को जमीन पर बैठे देखकर वह आश्चर्यचकित रह गए। उन्होंने छात्रों से बातचीत की और उनकी परशानी पूछी। अध्यक्ष ने बताया कि यहां एक हाार छात्रों के बैठने की व्यवस्था थी, जबकि इसे लगभग दो हाार छात्रों का केंद्र बना दिया गया है। अध्यक्ष ने कहा कि केंद्र बनाते समय स्कूल की मूलभूत सुविधाओं पर ध्यान नहीं दिए जाने के कारण ऐसी समस्या आयी है। जिला शिक्षा पदाधिकारी को जांच कर जरूरी कार्रवाई का निर्देश शुक्रवार को ही दिया गया था। कार्रवाई न होने के बाद अध्यक्ष ने शनिवार को फिर डीईओ को अतिरिक्त बेंच-डेस्क की व्यवस्था करने को कहा गया है, ताकि अगली विषयों की परीक्षाओं में छात्रों को परशानी न हो। अध्यक्ष ने कहा कि अतिरिक्त खर्च की भरपाई समिति करगी। उन्होंने टीपीएस कॉलेज का भी निरीक्षण किया। सचिव अनूप कुमार सिन्हा ने बताया कि शनिवार को सूबे से नकल के आरोप में 155 छात्रों को निलंबित किया गया। भागलपुर से सर्वाधिक 2और सहरसा से 26, मुजफ्फरपुर से 22, पटना से तीन, सीवान व बेगूसराय से पांच-पांच एवं बांका से दो नकलचियों को पकड़ा गया।ड्ढr ड्ढr मैट्रिक की कापियों की जांच 28 से, बने 81 मूल्यांकन केंदड्र्ढr पटना (हि.प्र.)। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने लोकसभा चुनाव एवं छात्रों की परशानी के मद्देनजर मैट्रिक की कॉपियों की जांच 28 मार्च से कराने का निर्णय लिया है। इसके लिए 81 मूल्यांकन केंद्र बनाए गए हैं। केंद्रों पर शांतिपूर्ण माहौल रहे इसके लिए सुरक्षा बलों की तैनाती का अनुरोध किया गया है। इंटर परीक्षा के साथ-साथ मैट्रिक की कॉपियों का मूल्यांकन भी किया जाएगा। मैट्रिक की कॉपियां अभी स्टांग रूम में बंद हैं। इन्हें मूल्यांकन केंद्रों तक सुरक्षा के बीच पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। इस बार प्रश्नों को कई भागों में बांटा जाएगा और सही स्टेप के लिए पूर अंक दिए जाएंगे। इस नई मार्किंग स्कीम की जानकारी सभी शिक्षकों को दी जाएगी। इसके लिए पहले मूल्यांकन केंद्रों के निदेशक की बैठक बुलाई गई है। समिति के अध्यक्ष प्रो. एकेपी यादव ने बताया कि 24 मार्च को होने वाली बैठक में निदेशकों को मार्किंग स्कीम की जानकारी दी जाएगी। केंद्रों को अंतिम रूप दे दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कार्रवाई नहीं, दरी पर ही दी परीक्षा