DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अनुसूचित जाति की लडकियों की शिक्षा के लिए नई योजना

हरियाणा सरकार ने चालू वित्त वर्ष में अनुसूचित जाति की 5000 लड़कियों को उच्चतर शिक्षा में सहायता हेतु अनुसूचित जाति उच्च शिक्षा प्रोत्साहन योजना शुरू की है। राज्य सरकार ने अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग के 25100 छात्रों को शामिल करने के लिए डॉ अम्बेडकर मेधावी छात्र योजना का भी विस्तार किया है। 


 मुख्यमंत्री भूपेन्र सिंह हुड्डा ने अनुसूचित जाति उच्च शिक्षा प्रोत्साहन योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना के लिए चालू वित्त वर्ष में 5.33 करोड रुपए का प्रावधान किया गया है। हुड्डा ने कहा कि डॉ अम्बेडकर मेधावी छात्र योजना के लिए 22.20 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। 


उन्होंने कहा कि केन्द्र प्रायोजित पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत लगभग 57 विद्यार्थी लाभ प्राप्त कर रहे हैं। इस योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति के विद्याथियों के जिन अभिभावकों की वार्षिक आय एक लाख रुपए से अधिक नहीं है उन्हें विभिन्न पोस्ट मैट्रिक कक्षाओं में 14 रुपए से लेकर 74 रुपए प्रतिमाह छात्रवृति दी जा रही है। इसी प्रकार पिछड़े वर्ग के उन छात्रों जिनके अभिभावकों की वार्षिक आय 4450 रुपए से अधिक नहीं है उन्हें विभिन्न पोस्ट मेट्रिक कक्षाओं में 90 रुपए से लेकर 425 रुपए प्रतिमाह तक छात्रवृति दी जा रही है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि तकनीकी और औद्योगिक प्रशिक्षण विभाग के सहयोग से इस वर्ष 6.50 करोड़ रुपए के प्रावधान के साथ एक नई योजना आरम्भ की गई। इस योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाति के छात्रों को पलम्बरइलैक्ट्रीशियन और कारपैन्टर जैसे आईटीआई के विभिन्न ट्रेड में निशुल्क अल्पावधि प्रशिक्षण दिया जा रहा है। प्रशिक्षण के दौरान छात्रों को छात्रवृति तथा कोर्स का खर्चा भी दिया जाता है। उन्होंने कहा कि समाज के इस वर्ग के उत्थान के लिए शुरू की गई विभिन्न योजनाओं के लिए चालू वित्त वर्ष में 167.71 करोड़ रुपए की राशि प्रदान की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अनुसूचित जाति की लडकियों की शिक्षा के लिए नई योजना