DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों के लिए दिल्ली होगी पास

अगले पांच वर्षो में दिल्ली से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों की दूरी और घट जाएगी। दिल्ली से जोड़ते हुए तीन प्रमुख सड़कों से आगरा, मेरठ व अलीगढ़ का सफर तो आसान होगा ही, दिल्ली के चहुंओर घूमने वाली ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे से बल्लभगढ़ से सोनीपत तक का सफर भी राहत से भरा होगा।

केन्द्रीय राज्य सड़क एवं परिवहन मंत्री आर पी एन सिंह ने नोएडा के सेक्टर-15 में आयोजित एक प्रेसवार्ता में बताया कि ईस्टर्न फेरीफेरल एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए बिड की तैयारी चल रही है। 27 सौ करोड़ रुपए की इस एक्सप्रेस-वे की राह में अड़चनों को दूर कर निर्माण कार्य को जल्द शुरू किया जाएगा। 14 लेन की इस सड़क पर छह ब्रिज और छह रेलवे ब्रिज बनेंगे। जमीन अधिग्रहित करने पर मुआवजे को लेकर आ रही अड़चनों को दूर करने का प्रयास चल रहा है।

दिल्ली से आगरा के बीच 180 किलोमीटर का निर्माण कार्य तेजी से चल रहा है। इस एक्सप्रेस-वे में 108 किलोमीटर की लंबाई अकेले उत्तर प्रदेश में है। छह लेन की इस सड़क पर 21 सौ करोड़ रुपए खर्च होगा। दिल्ली स्थित निजामुद्दीन से मेरठ तक 16 लेन  का हाइवे बनाया जाएगा। गाजियाबाद से अलीगढ़ तक के एक्सप्रेस रोड की बिड स्वीकृत हो चुकी है। चार लेन की सड़क का निर्माण कार्य इस साल के अंत तक चालू हो जाएगा।

केन्द्रीय मंत्री ने आश्वस्त किया कि अगले पांच वर्षो में इन सड़कों को कंपलीट करने के साथ ही प्रदेश भर में चल रही 29 रोड परियोजनाओं में से 20 अगले साल के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इन सड़कों के बन जाने से पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ट्रांसपोर्टेशन और आसान हो जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलों के लिए दिल्ली होगी पास