DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राष्ट्रपति भवन में चमके तीन खेल रत्न

राष्ट्रपति भवन में चमके तीन खेल रत्न

ओलंपिक के नायक मुक्केबाज विजेंदर सिंह और पहलवान सुशील कुमार तथा चार-बार की विश्व चैंपियन महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकाम को शनिवार को राष्ट्रपति भवन में प्रतिष्ठित राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों के इतिहास में पहली बार तीन खिलाड़ियों को अलग अलग भारत के सबसे बड़े खेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया जिसमें उन्हें 7.5 लाख रुपये का नकद पुरस्कार और नई तरह से डिजाइन की गई प्रतिमा दी गई।

इसके अलावा 15 अन्य खिलाड़ियों ने भी राष्ट्रपति भवन के अशोक हाल में राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल से वर्ष 2008 के लिएअर्जुन पुरस्कार हासिल किए। इनमें क्रिकेटर गौतम गंभीर, दुनिया की सातवें नंबर की बैडमिंटन खिलाड़ी सायना नेहवाल, एशियाई शतरंज चैंपियन तानिया सचदेवा और हाकी खिलाड़ी इग्नेस टिर्की प्रमुख हैं।

खेल रत्न विजेताओं की तरह अर्जुन पुरस्कार विजेताओं को भी नई डिजाइन की गई प्रतिमा और प्रत्येक को पांच लाख रुपये का पुरस्कार मिला। पिछले पांच साल में पहली बार किसी क्रिकेटर को अर्जुन पुरस्कार दिया गया। इससे पहले अंतिम बार 2003 में ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह को अर्जुन पुरस्कार विजेताओं की सूची में जगह मिली थी। गंभीर अभी आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर एक बल्लेबाज हैं और सलामी बल्लेबाज के तौर पर उन्होंने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है।

सायना ने पिछले दो साल में शानदार प्रदर्शन किया तथा दो प्रमुख प्रतियोगिताएं जीती। उन्होंने बीजिंग ओलंपिक के क्वार्टर फाइनल में भी जगह बनाई। सायना के कोच और पूर्व बैंडमिंटन खिलाड़ी पुलेला गोपीचंद, बीजिंग ओलंपिक में भारत के सहायक मुक्केबाजी कोच जयदेव बिष्ट और सुशील के कोच सतपाल सहित चार कोच को द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें प्रतिमा, प्रशस्ति पत्र और पांच लाख रुपये की राशि मिली।

बीजिंग ओलंपिक के कांस्य पदक विजेता विजेंदर ने कहा कि यह मेरे कैरियर का सबसे महत्वपूर्ण क्षण है और मैं सम्मानित महसूस कर रहा हूं। 

ओलंपिक में 54 साल बाद देश के लिए कुश्ती में कांस्य पदक जीतने वाले सुशील ने कहा कि मुझे खुशी है कि कुश्तीको पहचान मिली है। यह मेरे लिए बड़ी उपलब्धि है। मैरीकाम ने अपना पुरस्कार अपने जुड़वां बेटों के रेचुंगवार काम और के खुपनीवार काम को समर्पित किया। उन्होंने कहा कि यह मेरे बेटों के लिए है। वे मेरी जिंदगी हैं।

खेल मंत्रालय ने इस बार नए पुरस्कार राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार की भी शुरुआत की जिसे अलग-अलग वर्गों में टाटा स्टील लिमिटेड और रेलवे खेल संवंर्धन बोर्ड को दिया गया।

पुरस्कार विजेताओं की सूची इस प्रकार है-

राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार-
मैरीकोम (महिला मुक्केबाज), विजेन्दर सिंह (मुक्केबाज), सुशील कुमार (कुश्ती)।
अर्जुन पुरस्कार-
मंगल सिंह चम्पिया (तीरंदाजी), सिनीमोल पाउलोस (एथलेटिक्स), सायना नेहवाल (बैडमिंटन), एल सरिता देवी (महिला मुक्केबाजी), तानिया सचदेवा (शतरंज), गौतम गंभीर (क्रिकेट), इग्नेस टिर्की (हाकी पुरुष), सुरिन्दर कौर (हाकी महिला), पंकज नवनाथ शिरसत (कबड्डी), सतीश जोशी (नौकायन), रंजन सोढ़ी (निशानेबाजी), पाउलौमी घटक (टेबिल टेनिस), योगेश्वर दत्त (कुश्ती), गिरधारी लाल यादव (पाल नौकायन), बी प्रभु (विकलांग वर्ग)।
ध्यानचंद पुरस्कार-
इशर सिंह देओल (एथलेटिक्स), सतवीर सिंह दाहिया (कुश्ती)।
द्रोणाचार्य पुरस्कार-
पुलेला गोपीचंद (बैडमिंटन), जयदेव विष्ट (मुक्केबाजी), एस बल्देव सिंह (हाकी), सतपाल (कुश्ती), उदय कुमार (कबड्डी)।
राष्ट्रीय खेल प्रोत्साहन पुरस्कार-
टाटा स्टील लिमिटेड और रेलवे खेल संवर्धन बोर्ड।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राष्ट्रपति भवन में चमके तीन खेल रत्न