DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भार-वाहनों में सवारी बैठाने वालों की होगी धरपकड़

भार वाहनों में सवारी ढोने वाले बख्शे नहीं जाएंगे। आरटीओ ने इनके खिलाफ सख्त अभियान छेड़ने की तैयारी कर ली है। ऐसे वाहनों की धरपकड़ के लिए विभिन्न टीमों को तैनात कर दिया गया है।

जुगाड़ से एक्सीडेंट मामले में कोर्ट द्वारा एक परिवहन विभाग पर जुर्माना ठोंके जाने पर गाजियाबाद संभागीय परिवहन विभाग के कान खड़े हो गए हैं। इस श्रेणी में अपना नंबर न आने देने के लिए छापेमारी अभियान तेज कर दिया गया है। खासतौर पर उन क्षेत्रों में जब एक्सीडेंट की स्थिति में आरटीओ का गला फंसने की उम्मीद हो।

एमवी एक्ट में किसी भी भार वाहन में सवारी ढोने की इजाजत नहीं है। यदि कोई वाहन ऐसा करता पाया जाता है, तो उससे भारी जुर्माना लिए जाने का प्रावधान है। गाजियाबाद संभाग में इस तरह के काफी मामले आते हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक दिल्ली से अन्य शहरों और अन्य शहरों से दिल्ली काफी सामान की आवाजही होती है। माल अनलोड कर जब ट्रक और टाटा-407 जैसे वाहन वापस लौटते समय पीछे सवारी बैठा लेते हैं।

किसी कारणवश सवारी के गिर जने से होने वाले हादसे में आरटीओ पर भी लापरवाही का शिकंजा कसा जाता है। भार वाहन सवारी न ढो सके इसके लिए धरपकड़ अभियान शुरू किया जा रहा है। आरटीओ लालजी चौधरी ने बताया कि भार वाहन सवारी ढोते हुए पाया जाता है, तो उस पर ढाई हजार का जुर्माना लगता है। इसके साथ ही वाहन में मौजूद सवारियों के हिसाब से भी जुर्माना जोड़ा जाता है।

जिसमें छह सवारी का 667 रुपए,12 का 3334 रुपए, 22 का 6970 रुपए और 22 से 52 सवारियों पर 9941 रुपए के हिसाब से जुर्माना वसूला जाएगा। इन पर शिकंजा कसने के लिए तीन टीमों को तैनात कर दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भार-वाहनों में सवारी बैठाने वालों की होगी धरपकड़