DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेरठ में अवैध बूचड़खानो तथा चर्बी की भट्ठियां होगी

उत्तर प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को बताया है कि मेरठ में मृत पशुओं की चर्बी निकालने के लिए अवैध रुप से चल रही भट्ठियों तथा बूचड़खानों को हटाने के लिए उचित कार्य योजना बनाई जाएगी।
 
उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने ऐसी अवैध भट्ठियों तथा बूचडखानों के संबंध में आयोग के समक्ष गत मंगलवार को सुनवाई के दौरान स्वीकार किया कि इन भट्ठियों से हो रहा प्रदूषण वहां के निवासियों के स्वास्थ्य पर असर डालने वाला गंभीर मुद्दा है। उन्होंने आश्वासन दिया कि जनता के स्वास्थ्य से कोई समझौता नहीं किया जाएगा और इस प्रदूषण को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इस संबंध में कार्य योजना बनाई जाएगी और उसे एक सप्ताह के भीतर आयोग को सौंपा जाएगा।

आयोग की आज जारी एक विज्ञप्ति के अनुसार मेरठ के जिलाधिकारी ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए 24 टीम गठित की गई हैं कि अवैध भट्ठियों में कोई काम न हो। जिला प्रशासन ने शहर से भट्ठियों को हटाने के लिए कदम उठाने से पहले सभी संबद्ध पक्षों तथा अन्य सरकारी एजेंसियों के साथ तालमेल बनाने के लिए कुछ समय मांगा है।

आयोग ने मेरठ में अवैध बूचड़खानों तथा करीब 200 भट्ठियों को हटाने की उसकी सिफारिश पर अमल नहीं किए जाने के मुद्दे पर राज्य के मुख्य सचिव जिलाधिकारी नगर आयुकत तथा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को तलब किया था। आयोग का कहना था कि गत तीन जून को जिलाधिकारी तथा नगर आयुक्त के आश्वासन के बावजूद ये भट्ठियां तथा बूचड़खाने है आए नहीं गए हैं। आयोग ने उच्चतम न्यायालय के वकील अजय अग्रवाल द्वारा दायर शिकायत पर यह सुनवाई की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मेरठ में अवैध बूचड़खानो तथा चर्बी की भट्ठियां होगी