DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वाइन फ्लू को लेकर निजी अस्पतालों को नई गाइड लाइन

स्वास्थ्य मंत्रालय ने निजी अस्पतालों में सर्दी, खांसी, बुखार का इलाज कराने आने वाले सभी रोगियों को जांच के लिए बादशाह खान अस्पताल में भेजने के निर्देश दिए हैं। इससे पहले वहां आने वाले स्वाइन फ्लू के मरीजों को ही अस्पताल भेजने का निर्देश था। इसके साथ गाइड लाइन जारी कर ग्रेड सी के मरीजों को दिल्ली के राममनोहर लोहिया या सरकारी अस्पताल में रेफर करने के निर्देश थे।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को नया सरक्यूलर जारी कर निजी अस्पतालों को स्वाइन फ्लू के संभावित मरीजों के साथ वहां आने वाले मौसमी रोगों के मरीजों को भी जांच के लिए बीके या किसी सरकारी अस्पताल में भेजने के निर्देश दिए गए हैं। बीके के ओपीडी में भी आने वाले मरीजों की स्क्रूटनी कर गले और खून के नमूने लेकर दिल्ली एनआईसीडी भेजने को कहा गया है। जिले में स्वाइन फ्लू से एक महिला की मौत हो चुकी है। जबकि पांच मरीजों का पता चला है।

स्वाइन फ्लू के संदेह में अब तक करीब चार सौ लोगों के गले और खून के नमूने लेकर जांच के लिए दिल्ली भेजा जा चुका है। मरीजों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने जिले के नामचीन निजी अस्पतालों को ई-मेल भेजकर दिशा-निर्देशों का पालन नहीं करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।

नोडल अधिकारी डॉ. ओपी मेहता का कहना है कि निजी अस्पतालो में एच1एन1 के भर्ती  गंभीर मरीजों को दिल्ली के राममनोहर लोहिया या बीके अस्पताल में रेफर करने को कहा गया है। गाइड लाइन के अनुसार स्वाइन फ्लू के संभावित मरीजों को टेमीफ्लू की दवा मुफ्त दी जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वाइन फ्लू को लेकर निजी अस्पतालों को नई गाइड लाइन