DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हर हालात में पार्टी की सेवा करूंगी: वसुंधरा

हर हालात में पार्टी की सेवा करूंगी: वसुंधरा

नई दिल्ली, एजेंसी

भाजपा नेतृत्व के साथ लंबी तनातनी के बाद वसुंधरा राजे ने पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के निर्देशानुसार राजस्थान में विपक्ष की नेता के पद से इस्तीफा देने का शुक्रवार को संकेत देते हुए कहा कि वह पद या पद के बिना पार्टी की सेवा करने को प्रतिबद्ध हैं।

भाजपा आलाकमान द्वारा 31 अगस्त को दिल्ली तलब की गईं वसुंधरा ने कहा कि वह पार्टी की अनुशासित सिपाही हैं और इसका आदेश उनके लिए सर्वोच्च है।
 उन्होंने एक बयान में कहा कि मैं पद या इसके बिना पार्टी की सेवा को प्रतिबद्ध हूं। नाफरमानी का रुख अख्तियार करने के बाद उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि किसी परिवार में जब किसी तरह की कोई समस्या होती है तो स्वाभाविक है कि आप बैठेंगे और बातचीत से इसका समाधान निकालेंगे।
      
वसुंधरा आगे के कदमों पर चर्चा के लिए सोमवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता एम वेंकैया नायडू से मिलेंगी। पार्टी आलाकमान ने इस्तीफा देने के लिए उनहें 30 अगस्त तक का समय दिया है। बुधवार को भाजपा विधायकों में अपनी पकड़ दिखाने वाली पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वह जितना जल्दी हो सके उतना जल्दी इन समस्याओं का बातचीत से समाधान के लिए जाना चाहेंगी। पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा बुलाई गई बैठक में 78 विधायकों में से 70 ने हिस्सा लिया था।

नायडू को राजस्थान भाजपा इकाई के संकट के समाधान की जिम्मेदारी सौंपी गई है। राज्य विधानसभा और लोकसभा चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार ठहराते हुए भाजपा ने इस महीने के शुरू में उनसे विपक्ष के नेता पद से त्यागपत्र देने को कहा था। वसुंधरा ने पार्टी का निर्णय स्वीकार करने से पहले तीन शर्तें रखी हैं। वह विपक्ष के नेता के तौर पर अपना उत्तराधिकारी चुनना चाहती हैं, अपने दो समर्थकों का निलंबन वापस चाहती हैं और अपने लिए दिल्ली में एक पद चाहती हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि उनका उनकी मां दिवंगत विजया राजे सिंधिया के समय से राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के साथ बहुत सौहार्दपूर्ण एवं पारिवारिक रिश्ते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी का कोई आदेश मेरे लिए सर्वोच्च है। विपक्ष का नेता पद छोड़ने के प्रति अपनी अनिच्छा जताने के लिए वसुंधरा ने पिछले सप्ताह 57 भाजपा विधायकों को दिल्ली दौड़ाया था। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी लेकिन लालकष्ण आडवाणी ने विधायकों से मिलने से इंकार कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर हालात में पार्टी की सेवा करूंगी: वसुंधरा