DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुजरात में किताब पर प्रतिबंध पर कोर्ट गए जसवंत

गुजरात में किताब पर प्रतिबंध पर कोर्ट गए जसवंत

भाजपा से निष्कासित नेता जसवंत सिंह ने मोहम्मद अली जिन्ना पर लिखी अपनी किताब पर गुजरात सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंध को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी।

जसवंत सिंह ने उनकी किताब 'जिन्नाः इंडिया, पार्टिशन, इंडिपेंडेंस' के प्रकाशक रूपा एंड कंपनी के एक प्रतिनिधि के साथ सुप्रीम कोर्ट में गुजरात सरकार द्वारा किताब पर 19 अगस्त को लगाए गए प्रतिबंध के फैसले के खिलाफ एक याचिका दायर की। किताब का विमोचन इससे दो दिन पहले ही हुआ था।

जसवंत सिंह की याचिका में कहा गया है कि गुजरात सरकार ने किताब पर प्रतिबंध के लिए जो अधिसूचना जारी की उसमें किताब की विषय वस्तु का जिक्र नहीं है, जिसकी वजह से प्रतिबंध लगाया गया। उन्होंने यह भी कहा कि किताब को पढ़े बिना ही उस पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

जसवंत सिंह के भाजपा से निष्कासन के कुछ ही घ्‍ांटे बाद उनकी किताब पर गुजरात में प्रतिबंध लगाया गया। राज्य सरकार का आरोप है कि किताब में देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की देशभक्ति की भावना पर सवाल उठा कर उनकी छवि खराब करने का प्रयास किया गया है।

जसवंत सिंह का तर्क है कि किताब पर प्रतिबंध लगाना विचारों पर प्रतिबंध लगाना है और यह उसी तरह है जैसे कभी प्रख्यात लेखक सलमान रूश्दी की विवादास्पद किताब सैटेनिक वर्सेस पर प्रतिबंध लगाया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुजरात में किताब पर प्रतिबंध पर कोर्ट गए जसवंत