DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाक को सईद के खिलाफ सबूतों की जांच की जरूत : मलिक

पाक को सईद के खिलाफ सबूतों की जांच की जरूत : मलिक

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने कहा है कि भारत की ओर से प्रस्तुत किये गये जिन सबूतों के आधार पर इंटरपोल ने जमात उद दावा (जेयूडी) प्रमुख हाफिज मोहम्मद सईद के खिलाफ रेड कार्नर नोटिस जारी किया है इस्लामाबाद को उनकी जांच करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, हम इसका (रेड कार्नर नोटिस का) परीक्षण करेंगे।

मलिक ने कहा कि नोटिस पर कार्रवाई आगे बढ़ाने के लिए कुछ प्रक्रियाएं पूरी करनी होती हैं। लंदन में गुरुवार को एक संवाददाता सम्मेलन में वह रेड कार्नर नोटिस के संबंध में पूछे गये प्रश्नों का जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत या अन्य किसी देश के खिलाफ पाकिस्तान अपनी धरती के प्रयोग की कभी इजाजत नहीं देगा।

मुंबई पर आतंकी हमलों की योजना बनाने और उसे अंजाम देने में कथित भूमिका के कारण मुंबई की एक विशेष अदालत की ओर से जेयूडी प्रमुख के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी होने पर इंटरपोल ने सईद के खिलाफ नोटिस जारी किये हैं।

भारत ने हाल ही में पाकिस्तान को नए दस्तावेज सौंपे थे। मुंबई पर जिन 10 आतंकवादियों ने हमले किये थे सईद से उनके संपर्क और उनके प्रशिक्षण देने के बारे में इन दस्तावेज में व्यापक जानकारियां हैं।

मलिक ने कहा कि पाकिस्तान को भारत की ओर से नया दस्तावेज प्राप्त हुआ है लेकिन उसकी जांच करने की जरूरत है ताकि यह पता लगाया जा सके कि यह आवश्यक प्रक्रियाओं के संबंध में जरूरतों को पूरा करता है या नहीं। उन्होंने कहा हमें ठोस सबूतों की जरूरत है जो अदालत में खरे उतर सकें।

मलिक ने कहा कि मुंबई हमलों की जांच के संबंध में पाकिस्तान सरकार की ओर से उठाये कदम बहुत पारदर्शी हैं। उन्होंने कहा कि पहले पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। उसके बाद दो और गिरफ्तारियां हुई हैं। वह जल्द ही इन दो लोगों के बारे में सूचना उपलब्ध करायेंगे।

मलिक ने भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस हालिया वक्तव्य का हवाला दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह भारत में नये हमले कर सकते हैं और इस बारे में ठोस सूचना है।

मलिक ने कहा कि भारत को उस सूचना के संबंध में पाकिस्तान के साथ साझेदारी करनी चाहिए। मलिक ने इस संबंध में कहा, कृपया हमें सूचना दीजिए। वह सूचना चाहिए क्योंकि हम इसकी (मामले की) गहराई में जाना चाहते हैं।

उन्होंने उल्लेख किया कि मुंबई पर आतंकवादी हमलों से पूर्व भारत ने कई संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था। मलिक ने दावा किया कि इस संबंध में पाकिस्तान को यदि सूचना दी गयी होती तो यह घ्‍ाटना (मुंबई हमला) नहीं हुई होती।

लश्कर ए तैय्यबा के आपरेशन कमांडर जकी उर रहमान लखवी और उसके संचार तकनीक विशेषज्ञ जरार शाह सहित संगठन के पांच कार्यकर्ताओं को मुंबई पर हमले के संबंध में पाकिस्तान के अधिकारियों ने गिरफ्तार किया है। सभी पर रावलपिंडी स्थित आतंकवाद निरोधक अदालत में मुकदमा चलाया जा रहा है।

लश्कर ए तैयबा के संस्थापक सईद को गत वर्ष दिसंबर में नजरबंद कर रखा गया था। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने जेयूडी को आतंकवादी संगठन घोषित कर दिया था, जिसके बाद सईद पर कार्रवाई की गयी, लेकिन जून महीने में लाहौर हाई कोर्ट के आदेश के बाद उसे रिहा कर दिया गया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सईद के खिलाफ सबूतों की जांच की जरूत : मलिक