DA Image
23 फरवरी, 2020|3:49|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेटली के आश्वासन ने मेरा मन बदला: सहवाग

जेटली के आश्वासन ने मेरा मन बदला: सहवाग

डीडीसीए के विरुद्ध एक तरह से मुहिम छेड़ने वाले स्टार बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने गुरुवार को साफ किया कि चयन मामले में होने वाले भ्रष्टाचार को खत्म करने के आश्वासन के बाद उन्होंने दिल्ली रणजी टीम से जुड़े रहने का फैसला किया।

सहवाग ने दिल्ली रणजी टीम को छोड़ने की धमकी देकर सनसनी फैला दी थी। उन्होंने कहा कि टीम के सीनियर खिलाड़ी होने के नाते चयन प्रणाली को साफ करना उनकी नैतिक जिम्मेदारी थी। सहवाग ने कहा कि दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ के अध्यक्ष अरुण जेटली ने उन्हें बैठक के दौरान आश्वासन दिया कि अनुभवी, निष्पक्ष और दृढ़ चयनकर्ताओं को नियुक्त किया जाएगा।

सहवाग ने कहा कि मैं इस बात से खुश हूं कि जेटली ने अनुभवी, निष्पक्ष और दृढ़ चयनकर्ताओं को रखने की जरूरत पर जोर दिया। इस फैसले के बाद मुझे पूरा भरोसा है कि दिल्ली की ओर से खेलने के इच्छुक खिलाड़ी अब निष्पक्षता की उम्मीद कर सकते हैं।
उन्होंने कहा कि मैं यह दोहराना चाहता हूं कि मैं सुधरे हुए हालातों में दिल्ली क्रिकेट की सेवा जारी रखना पसंद करूंगा।

इस विस्फोटक बल्लेबाज ने कहा कि सीनियर खिलाड़ी होने के नाते वह नैतिकता से बंधे थे, क्योंकि डीडीसीए में होने वाले गलत तरीके को जल्द से जल्द खत्म करने की जरूरत थी। उन्होंने कहा कि दिल्ली की क्रिकेट पीढ़ी का हिस्सा होना गर्व की बात है इसलिए चयन प्रक्रिया में होने वाली अनुचित गतिविधियों से मैं सबसे ज्यादा आहत हुआ और जो खिलाड़ी टीम में शामिल होने के हकदार थे, उनकी आवाज नहीं सुनी गई।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:जेटली के आश्वासन ने मेरा मन बदला: सहवाग