DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वकीलों का ऐलान-हाईकोर्ट का बँटवारा नहीं होने देंगे

‘इलाहाबाद उच्च न्यायालय का बँटवारा किसी भी कीमत पर नहीं होने दिया जाएगा।’ यह ऐलान गुरुवार को उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ताओं ने अपने सम्मान में आयोजित समारोह में किया। इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के तत्वाधान में आयोजित कार्यक्रम में बार एसोसिएशन के अध्यक्ष वीसी मिश्र ने 1981 में ‘हाईकोर्ट बचाओ आन्दोलन’ की अगुवाई कर चुके वरिष्ठ अधिवक्ता स्व. एडी गिरी के चित्र पर माल्र्यापण कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके बाद वरिष्ठ अधिवक्ता एबीएल गौड़, एमडी. सिंह शेखर, वीपी श्रीवास्तव, ओपी सिंह, तपन घोष, पीपी यादव, भगवती प्रसाद श्रीवास्तव, अरुण मिश्र, हरिद्वार सिंह को बार एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री मिश्र ने माला पहनाकर स्वागत किया। उन्हें शाल भेंट कर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर 1981 के आन्दोलन की अगुआई करने वाले वरिष्ठ अधिवक्ताओं ने कहा कि पश्चिम में हाईकोर्ट की बेंच बनाने की बात कोरी अफवाह नहीं हैं बल्कि एक सच्चई है। इस लड़ाई को मिल कर लड़ना है। युवा अधिवक्तागण इस लड़ाई में आगे आएँ। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष वीसी मिश्र ने कहा कि भारतीय संविधान में ‘एक राज्य एक हाईकोर्ट’ की व्यवस्था है। संविधान की रक्षा करना सभी अधिवक्ताओं का धर्म है।

श्री मिश्र ने बताया कि 28 अगस्त की शाम चार बजे इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के स्टडी रूम में जिला बार एसोसिएशन, कैट बार एसोसिएशन, रेवन्यू, सेल्सटैक्स और इनकम टैक्स बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों की संयुक्त बैठक होगी। उसमें आन्दोलन की रणनीति तय की जाएगी।

कार्यक्रम का संचालन महासचिव वीर सिंह ने किया। कार्यक्रम में पीडी त्रिपाठी, एनसी त्रिपाठी, हरवंश सिंह, पवन भारद्वाज, माधवेन्द्र मिश्र, सोम नारायण मिश्र, राजेन्द्र दुबे, सन्तोष कुमार मिश्र, महेन्द्र बहादुर सिंह, विष्णु पाण्डेय, एके ओझ, पीके चौहान, जर्नादन यादव, हरिश्चन्द्र चौरसिया, अविनाश जायसवाल, राकेश कुमार पाण्डेय, राजेश यादव, अमलेश द्विवेदी, जवाहर लाल दुबे, कमल यादव, विवेक तिवारी, सत्य प्रकाश पाण्डेय, जितेन्द्र कुमार मिश्र सहित सैकड़ों अधिवक्तागण उपस्थित थे।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वकीलों का ऐलान-हाईकोर्ट का बँटवारा नहीं होने देंगे