class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डूसू चुनाव में केवल 37 ही मैदान में

डूसू चुनाव के लिए गुरुवार को नाम वापस लेने के अंतिम दिन नामाकंन दाखिल करने वाले 203 उम्मीदवारों में से मात्र 37 ही मैदान में रह गए हैं। 166 उम्मीदवारों का मोह जहां दो दिन के भीतर ही भंग हो गया है वहीं दूसरी ओर अंतिम सूची में छह ऐसे उम्मीदवार भी शामिल है जिन्हें आचार संहिता उल्लंघन मामले में आरोपी होने के कारण अस्थायी उम्मीदवारी दी गई है। प्रमुख संगठनों के अंतिम चार प्रत्याशियों की बात करें तो एबीवीपी ने तो अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं लेकिन एनएसयूआई में देर रात तक दो पदों पर खींचतान जारी रही। 


 चुनाव के लिए उम्मीदवारों की अंतिम सूची जारी किए जाने के महत्वपूर्ण दिन होने के कारण आज भारी संख्या में नामाकंन वापस लिए गए। सुबह से ही एबीवीपी और एनसयूआई की ओर से सभी चारों पदों पर नामाकंन दाखिल करने वाले अपने उम्मीदवारों के नामों को वापस लेने का सिलसिला शुरू हो गया था। इस दौरान कई विद्रोही और डमी उम्मीदवारों को भी अंतिम सूची में पहुंचने से रोकने की मान मनोव्वल की गई। डूसू चुनाव के लिए नियुक्त चुनाव चीफ रिटर्निग ऑफिसर प्रो. जेएम खुराना ने बताया कि नामाकंन दाखिल करने वालों उम्मीदवारों की संख्या 25 अगस्त को 203 थी जो नामाकंन वापस लिए जाने के बाद घटकर मात्र 37 ही रह गई है। सबसे ज्यादा 11 प्रत्याशी अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल है। उपाध्यक्ष पद की दौड़ में 9 प्रत्याशी, सेकेट्री पद के लिए 10 प्रत्याशी और ज्वाइंट सेकेट्री पद के लिए 7 प्रत्याशी मैदान में बचे हैं। प्रो खुराना ने बताया कि अब सभी प्रत्याशियों के पास चुनाव के लिए 3 सितम्बर सुबह आठ बजे तक का समय है।

                   एबीवीपी          एनएसयूआई       आइसा           इनसो
अध्यक्ष           रोहित चहल       दीपक नेगी      सनी कुमार       चेतन आर्य
उपाध्यक्ष          कृति वढ़ेरा       उमेश तंवर      स्वेतलाना       भास्कर ज्योति
सेकेट्री           ललित कुमार     घोषित नहीं      विधि भारद्वाज    हरविंदर       
ज्वाइंट सेक्रेट्री   अशोक खारी     घोषित नहीं      पवन कुमार      आशा किरण

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डूसू चुनाव में केवल 37 ही मैदान में