DA Image
22 जनवरी, 2020|7:42|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पोखरण दो परमाणु परीक्षण सफल था: कलाम

पोखरण दो परमाणु परीक्षण सफल था: कलाम

पोखरण दो परमाणु परीक्षण पर उठे विवाद पर विराम लगाने की कोशिश के तहत पूर्व राष्ट्रपति ए पी जे अब्दुल कलाम ने गुरुवार को कहा कि परीक्षण पूरी तरह से सफल थे और इससे वांछित परिणाम मिले।

एटामिक टेस्ट के बारे में कलाम ने कहा कि परीक्षण के बाद दो प्रयोगात्मक परिणामों (1) मौके और इसके आसपास भूकंपीय मापन और (2) परीक्षण स्थाल पर परीक्षण के बाद रेडियोधर्मिता के मापन के आधार पर विस्तृत समीक्षा की गई। डीआरडीओ के तत्कालीन महानिदेशक रहे कलाम ने कहा कि इन आंकड़ों से परियोजना दल इस निष्कर्ष पर पहुंचा कि तापीय परमाणु परीक्षण के वांछित डिजाइन लक्ष्य को प्राप्त कर लिया गया है।

भारत ने मई 11 और मई 13, 1998 को राजस्थान के पोखरण परमाणु स्थल पर पांच परमाणु परीक्षण किए थे जिनमें 45 किलोटन का एक तापीय परमाणु उपकरण शामिल था जिसे आमतौर पर हाइड्रोजन बम के नाम से जाना जाता है। मई 11 को हुए परमाणु परीक्षण में 15 किलोटन का विखंडन उपकरण और 0.2 किलोटन का सहायक उपकरण शामिल था। इसी प्रकार 13 मई 1998 को भी 0.5 किलोटन और 0.3 किलोटन के उपकरण का परीक्षण किया था।

तत्कालीन रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार कलाम के अलावा उस समय परमाणु उर्जा आयोग के अध्यक्ष आर चिदंबरम और भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र के निदेशक रहे अनिल काकोडकर ने पोखरण दो परमाणु परीक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:पोखरण दो परमाणु परीक्षण सफल था: कलाम