DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जसवंत के निष्कासन पर अब यशवंत ने उठाई उंगली

जसवंत के निष्कासन पर अब यशवंत ने उठाई उंगली

लोकसभा चुनाव के परिणामों के लिए जवाबदेही तय किए जाने की मांग करने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने गुरुवार को पार्टी नेतृत्व पर नया प्रहार करते हुए जसवंत सिंह के निष्कासन की आलोचना की।

जसवंत जैसे स्तर वाले नेता को बिना कारण बताओ नोटिस जारी किए अचानक ही यूं निकाले जाने की आलोचना करते हुए पूर्व विदेश मंत्री सिन्हा ने कहा कि जसवंत सिंह के साथ अन्याय हुआ है। हालांकि मैं जिन्ना के बारे में जसवंत के आकलन से सहमत नहीं हूं लेकिन फिर भी महसूस करता हूं कि यह अनुशासन से जुड़ा मामला नहीं था।

सिन्हा ने कहा कि पार्टी के लिए किसी ऐसे व्यक्ति के खिलाफ अचानक इस तरह के फैसले लेना सही नहीं है, जिसने 30 साल उसके लिए काम किया हो और जो पार्टी का संस्थापक सदस्य रहा हो। सिन्हा ने कहा कि किताब लिखना अनुशासनहीनता नहीं है। पार्टी अध्यक्ष ने पहले ही जसवंत की किताब की विषयवस्तु से खुद को अलग कर लिया था। उतना ही काफी था। उन्होंने कहा कि निष्कासन की प्रक्रिया त्रुटिपूर्ण रही क्योंकि जसवंत को कारण बताओ नोटिस तक जारी नहीं किया गया।

एक सवाल पर सिन्हा ने कहा कि यदि अटल बिहारी वाजपेयी सक्रिय होते तो इन चीजों से शायद अलग ढंग से निपटा जाता। सिन्हा ने चुनावी हार की जवाबदेही नहीं तय करने के लिए पार्टी की आलोचना करते हुए कहा कि उन्होंने विरोधस्वरूप जुलाई में संगठन के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जसवंत के निष्कासन पर अब यशवंत ने उठाई उंगली