class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आडवाणी के संज्ञान में छोड़े गए आतंकीः ब्रजेश मिश्रा

आडवाणी के संज्ञान में छोड़े गए आतंकीः ब्रजेश मिश्रा

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे ब्रजेश मिश्रा ने पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री लालकृष्ण आडवाणी के इस कथन को असत्य करार दिया है कि कंधार मामले में विमान यात्रियों की रिहाई के बदले तीन आतंकवादियों को छोड़ने का निर्णय सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की जिस बैठक में लिया गया तो वह उसमें मौजूद नहीं थे।

मिश्रा ने एक निजी टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा है कि जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अध्यक्षता में सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की बैठक में कंधार मामले में आतंकवादियों को छोड़ने का निर्णय लिया गया तो आडवाणी समेत पांचों सदस्य मौजूद थे। उन्होंने कहा कि इस समिति के सदस्य प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री और वित्त मंत्री थे।

यह ध्यान दिलाने पर कि आडवाणी ने कहा है कि उन्हें वाजपेयी सरकार के आतंकवादियों को छोड़ने के निर्णय की जानकारी बाद में मिली और सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की जिस बैठक में यह निर्णय लिया गया वह उसमें मौजूद नही थे।मिश्रा ने जोर देकर कहा कि आडवाणी भी उसमे मौजूद थे। उन्होंने कहा कि उस समय के विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री और वित्त मंत्री भी पहले यही बात कह चुके हैं।

आडवाणी ने कहा कि पहले अपहर्ताओं ने 32 आतंकवादियों को छोड़ने और 20 करोड़ डालर की फिरौती की मांग की थी लेकिन अंत में उनकी मांग तीन आतंकवादियों की रिहाई तक सिमट गई। उन्होंने बताया कि तत्कालीन विदेश मंत्री जसवंत सिंह ने आतंकवादियों को लेकर कंधार जाने की पेश की थी क्योंकि जिन राजनयिकों के माध्यम से अपहर्ताओं के जो बातें हो रही उससे वह भली भांति वाकिफ थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आडवाणी के संज्ञान में छोड़े गए आतंकीः ब्रजेश मिश्रा