DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आईएसआई ने पाक नेताओं को धन बांटने की बात मानी

आईएसआई ने पाक नेताओं को धन बांटने की बात मानी

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने एक सनसनीखेज खुलासा करते हुए अदालत में यह स्वीकार किया है कि उसने राजनीतिक दलों और पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ, गुलाम मुस्तफा जटोई, जफरूल्ला जमाली और मोहम्मद खान जुनेजो जैसे नेताओं को भारी मात्रा में धन बांटा था।

धन बांटे जाने का कार्य सिर्फ पूर्व प्रधानमंत्रियों तक ही सीमित नहीं है, बल्कि इसका सिरा राजनीति से संबंध रखने वाले पीर पगारो, अबीदा हुसैन, लेफ्टिनेंट जनरल रफाकत और कबायली नेता हुमायुं, नादिर मेंगाल एवं हासिल बिजेनो जैसे लोगों तक फैला हुआ है।

पाकिस्तान के पूर्व मुख्य न्यायधीश साईदुज जमान सिद्दिकी ने यह खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि यह मामला 1999 से देश के सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। उन्होंने कहा कि एक शपथपत्र में यह सनसनीखेज खुलासा किया गया है। इस शपथपत्र को पूर्व आईएसआई प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) असद दुर्रानी ने दाखिल किया था।

द डेली टाइम्स ने सिद्दिकी के हवाले से बताया है कि पूर्व राष्ट्रपति गुलाम इशाक खान के शासनकाल में लाखों रुपये बांटे गये और यह कार्य तथाकथित तौर पर इस्लामी जमहूरी इत्तेहाद (आईजेआई) में राजनेताओं को शामिल करने के उद्देश्य से किया गया था। सिद्दिकी ने एक निजी टीवी चैनल पर यह कहा था।

चुनावों में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) का विरोध करने के लिये गुलाम मुस्तफा जटोई की अध्यक्षता में सितंबर 1988 में आईजेआई का गठन किया गया था। इस गठबंधन में नौ पार्टियां शामिल थी। इसमें पाकिस्तान मुस्लिम लीग, नेशनल पीपुल्स पार्टी, जमात ए इस्लामी और जमियत उलेमा ए इस्लाम बड़े घ्‍ाटक दल थे।

सिद्दिकी ने चैनल को बताया कि उन्होंने उस वक्त कहा था कि आईएसआई की भूमिका राजनीतिक नहीं होनी चाहिये। उन्होंने बताया कि लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) दुर्रानी ने 24 जुलाई 1994 को एक शपथपत्र दाखिल किया था, इसमें आरोप लगाया गया है कि धन बांटे जाने के कार्य में उन्हें सरकार से पूर्ण मंजूरी मिली थी और करांची, रावलपिंडी और क्वेटा में कई बैंक खाते खोले गये थे। विशेष कोष के नाम पर उन्हें 14 करोड़ रुपये हस्तांतरित किये गये थे।

चैनल के पास मौजूद शपथपत्र के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री गुलाम मुस्तफा जटोई ने पचास लाख, नवाज शरीफ ने 35 लाख, जफरूल्ला जमाली ने 40 लाख, मोहम्मद खान जुनेजो ने 25 लाख और सिंध प्रांत के पूर्व मुख्यमंत्री जाम सादिक ने 50 लाख रुपये पाये थे।

इसके अलावा, पीर पगारो ने 20 लाख रूपये, जमात ए इस्लामी ने 50 लाख रूपये, मीर अफजल खान ने एक करोड़ रूपये, अबीदा हुसैन ने 10 लाख रूपये और मीडिया अभियान का प्रबंध करने के लिये लेफ्टिनेंट जनरल रफाकत ने 56 लाख एपये प्राप्त किये थे।

हुमायूं मारी को 15 लाख, काकर को 10 लाख रूपये, जाम युसूफ को सात लाख रूपये, हासिल बीजेनो को पांच लाख रूपये और नादिर मंगेल को 10 लाख एपये मिले थे। साथ ही, अल्ताफ हुसैन कुरैशी और मुस्तफा सादिक ने पांच लाख रूपये, सलाहुद्दीन ने तीन लाख रूपये, छोटे संगठनों ने 54 लाख रूपये और अन्य ने 33 लाख रुपये प्राप्त किये थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आईएसआई ने पाक नेताओं को धन बांटने की बात मानी