class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बाढ़ में डूबा बनगामा गांव

अमौर प्रखंड के बनगामा गांव में बाढ़पीड़ितों की स्थिति दयनीय है। करीब दो हजार की आबादी वाले इस गांव में अधिकांश परिवार गरीब मजदूर वर्ग के है, जो बाढ़ से उत्पन्न बेगारी की समस्याओं से त्रस्त हैं और भुखमरी की समस्याओं से जूझ रहे हैं, सरकारी राहत व बचाव की व्यवस्था यहां पूर्णत: नगण्य है। इस गांव में अधिकांश परिवारों के घर-आंगन में बाढ़ का पानी घुसा हुआ है।

गांव की सड़कों पर तीन से चार फीट पानी बह रहा है। गांव से बाहर निकलने का कहीं कोई मार्ग नहीं है। गांव में सुलभ शौचालय की व्यवस्था नहीं होने के कारण बाढ़ के दौरान खासकर यहां की महिलाओं को गम्भीर संकटों का सामना करना पड़ रहा है। मिट्टी तेल के अभाव में यहां के बाढ़पीड़ितों को रात अंधेरे में गुजारना होता है, जहां पानी में बिलबिलाते जहरीले कीड़े मकौड़े एवं सांप-बिच्छु के काटने का खतरा बना हुआ है।

प्रभावित परिवार सरकारी राहत की बाट जोह रहे हैं। प्रभावित परिवारों में मो. ताहिर, मस्लेउद्दीन, नैय्यर आलम, रहबर, अकीम, ममनून, महबूब, रमजान, नजीम, बहाव, हसमुद्दीन, मोहसीन, शमीम, हासिम, तौहीद, अख्तर, कबीर आदि मुख्य रूप से शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बाढ़ में डूबा बनगामा गांव