DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साफ्टवेयर के क्षेत्र में भी बिहार दूसरे राज्यों से पीछे नहीं

 बिहार में विकास की नई गाथा लिखने की शुरुआत हुई तो साफ्टवेयर के क्षेत्र में भी राज्य दूसरे राज्यों से पीछे नहीं रहा। केन्द्र सरकार ने इस क्षेत्र में देश के उद्यमियों को पुरस्कृत करने की योजना बनाई तो एक बार फिर बाजी बिहार के हाथ लग गई।

इस बार राजधानी पटना के अजय मैतिन का चयन केन्द्र सरकार ने किया है। उन्हें सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम मंत्रलय द्वारा विशेष पहचान पुरस्कार से नवाजा जाएगा। पुरस्कार वितरण 28 अगस्त को दिल्ली में आयोजित एक समारोह में किया जाएगा जिसमें उन्हें ट्राफी के साथ नकद बीस हजार रुपये भी दिये जाएंगे। 

कंप्यूटर रिपेयरिंग से शुरुआत करने वाले मैतिन आज उस ऊंचाई को हासिल कर चुके हैं जहां से पुरानी पांडुलिपियों का भी डिजीटाईजेशन किया जा सकता है। राज्य में ‘ग्राफिक ट्रेड्स’ के मालिक श्री मैतिन ने राज्य के विश्वविद्यालयों, परीक्षा समितियों और यहां तक कि बिहार लोक सेवा आयोग को ऐसी तकनीक प्रदान की जिससे ये संस्थाएं प्रवेश पत्र से लेकर परीक्षा परिणाम तक को कंप्यूटरीकृत कर सकीं। लिहाजा इनमें गलतियों की संभावनाएं भी कम तो हुई ही एक ऐसा डेटाबेस तैयार हो गया जिसे किसी खास वर्ग और विषय का अलग से रिजल्ट भी पाया जा सकता है।

श्री मैतिन अपनी इस सफलता का श्रेय उस माहौल को देते हैं जिसे मुख्यमंत्री ने राज्य में उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए बनाया है। उन्होंने कहा कि सॉफ्टवेयर डेवलप करने में उन्हें एक साल का समय लगा था। इसके पहले दो बार जीत वे सीआरएन गोल्ड आवार्ड (पूर्वी क्षेत्र) भी चुके हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साफ्टवेयर के क्षेत्र में भी बिहार आगे