DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वैज्ञानिकों को सुविधा मिलनी चाहिएः कलाम

वैज्ञानिकों को सुविधा मिलनी चाहिएः कलाम

पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा है कि वैज्ञानिकों को ज्यादा सुविधाएं मिलनी चाहिए ताकि वे शोध और विकास कार्य पर अपना ज्यादा ध्यान केंद्रित कर सकें। उन्होंने इस ऊर्जा क्षेत्र में निर्भता बढाने की जरुरत पर बल दिया और कहा कि इस क्षेत्र में वैज्ञानिकों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए।

डा. कलाम ने हाइड्रोजन तकनीकी पर वैश्विक सम्मेलन 2009 के उद्घाटन के अवसर पर बुधवार को यहां कहा कि दुनिया को ईंधन के परंपरागत विकल्प की सख्त जरूरत है और हाइड्रोजन ईंधन के महत्वपूर्ण विकल्प के रूप में उभर सकता है। लेकिन इसके क्रियान्वयन की कई बडी चुनौतियां भी है।
 
उन्होंने कहा कि दुनिया के विभिन्न देशों में ईंधन के रूप में हाइड्रोजन का विकल्प तलाशने के लिए काम हो रहा है और भारत में भी इस दिशा में काफी शोध कार्य हो रहे हैं लेकिन फिलहाल इसके महंगे होने आदि जैसी कई चुनौतियां इसलिए इस दिशा में शोध किए जाने की जरूरत है।
 
डा. कलाम ने कहा कि दुनिया को कच्चे तेल. कोयला और दूसरे पंरपरागत ईंधन के साधनों की जगह नए ऊर्जा स्रोंतों की जरूरत है और इनमें हाइड्रोजन ईंधन सबसे उपयोगी हो सकता है। उन्होंने कहा कि यह पारिस्थितिकी के अनुकूल और देश तथा दुनिया के हित में है इसलिए मिशन फार हाइड्रोजन टेक्नालाजी के रूप में काम करने की सख्त जरूरत है।

इंडियन आयल कारपोरशेन लिमिटेड, सोसाइटी आफ इंडियन आटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर, इंडियन इंस्टीट्यूट आफ टेक्नालाजी और बनारस हिंदू विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित इस सेमिनार को संबोधित करते हुए डा. कलाम ने कहा कि अक्षय ऊर्जा के रूप में देश को ऊर्जा क्षेत्र में आत्मनिर्भर होने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि देश प्रति वर्ष तेल आयात करता है और इस पर करीब 8200 करोड़ डालर खर्च करता है लेकिन यदि इसकी जगह कोई अच्छा विकल्प सामने आ जाए तो देश को पर्यावरण प्रदूषण से भी बचाया जा सकता है और ऊर्जा का नया विकल्प भी सामने आ सकता है।

डा. कलाम ने कहा कि हाइड्रोजन से साफ और स्वच्छ ऊर्जा मिल सकती है जो देश की बढती मांग को पूरा कर सकती है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में शोध कार्य पर और ध्यान दिए जाने की जरूरत है।

पेट्रोलियम सचिव आर एस पांडे ने इसे दूसरी पीढी की ईधन व्यवस्था बताया और कहा कि इस दिशा में 2005 से शोध और विकास कार्य चल रहे हैं और इसके लिए 100 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वैज्ञानिकों को सुविधा मिलनी चाहिएः कलाम