DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बलिया में दस लोगों पर अपहरण का मुकदमा

डेढ़ माह पहले हत्या की नीयत से हुए अपहरण के मामले में बांसडीह कोतवाली पुलिस ने दस लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। कोतवाली क्षेत्र के सुल्तानपुर गांव निवासी सुरेन्द्र यादव (40) के भाई रवीन्द्र यादव ने पुलिस को तहरीर देकर आरोप लगाया था कि आठ जुलाई को बिहार के सीवान जिले के रघुनाथपुर थाना क्षेत्र के राजपुर गांव निवासी दिनेश यादव उनके घर आये तथा उनके भाई सुरेन्द्र यादव को लकड़ी का धंधा करने के लिए अपने साथ ले गये।

जाते समय भाई ने कहा कि वे दोनों रात में बिहार की घाघरा के सिसवन घाट से नाव द्वारा लकड़ी लेकर सुल्तानपुर घाट पर नौ बजे आ जायेंगे। वहीं खाना लेकर आ जाइयेगा। इस दौरान उनके भाई के पास लकड़ी खरीदने के लिए 40 हजार रुपये भी थे। दिनेश यादव व उनके भाई के साथ एक दर्जन अन्य लोग भी गये थे।

रवीन्द्र के अनुसार दूसरे दिन काफी इंतजार के बाद भी उनके भाई न तो घर पहुंचे और न घाट पर ही आये। उन्होंने भोजपुरवा गांव के राजेन्द्र यादव के घर जाकर पूछताछ की तो उन्होंने गोलमटोल जवाब देते हुए कहा कि कहीं रिश्तेदारी में चले गये होंगे। काफी खोजबीन के बाद भी भाई का कहीं पता नहीं चला। उनका मोबाइल भी उसी दिन से स्विच आफ बता रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि उनके भाई सुरेन्द्र की 10 लोगों ने मिलकर हत्या कर दी और शव को काटकर घाघरा नदी में फेंक दिया। पुलिस ने इस संबंध में बिहार के सीवान जिले के सिसवन थाना क्षेत्र के राजपुर गांव निवासी दिनेश यादव, सिसवन गांव के अशोक मल्लाह, बांसडीह कोतवाली क्षेत्र के टिकुलिया भोजपुरवा गांव के राजेन्द्र यादव, रमाशंकर यादव, शिवजी यादव, विजय बहादुर यादव, वीर बहादुर यादव, परमेश्वर यादव, रामदेव यादव और मनियर थाना क्षेत्र के ताजपुर मुड़ियारी गांव निवासी बच्च यादव के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज किया है।

उधर इस हादसे से सुरेन्द्र यादव की गर्भवती पत्नी मुन्नी देवी, दो बेटों दीपक व चंदन तथा बेटी पूजा का रो-रोकर बुरा हाल है। रवीन्द्र यादव का आरोप है कि उन्होंने पुलिस को 14 जुलाई को ही तहरीर दी थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बलिया में दस लोगों पर अपहरण का मुकदमा