अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस ने कहा, धर्मयुद्ध

ांग्रेस का राजद और लोजपा से अब कोई रिश्ता नहीं होगा। प्रदेश कांग्रेस कमेटी आला कमान से यह भी मांग करगी कि चुनाव के बाद भी इन दलों के साथ कोई गठबंधन नहीं किया जाए। यह घोषणा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रभारी सरदार इकबाल सिंह और प्रदेश अध्यक्ष अनिल कुमार शर्मा ने रविवार को संवाददाता सम्मेलन में की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने लालू प्रसाद के खिलाफ धर्मयुद्ध शुरू किया है। इस युद्ध में लालू प्रसाद कलियुगी दुर्योधन हैं और साधु यादव कृष्ण के रूप में कांग्रेस रूपी पांडव के साथ आए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के आम कांग्रेसी कार्यकर्ताओं की इच्छा थी कि पार्टी अपनी खोई जमीन को प्राप्त कर और सभी सीटों पर चुनाव लड़े।ड्ढr ड्ढr जब कांग्रेस ने कार्यकर्ताओं की भावनाओं के अनुसार अध्यक्ष सोनिया गांधी ने निर्णय लिया तो पिछले दरवाजे से कांग्रेस की जमीन पर कब्जा करने वाले लोग बौखला गए। उन्होंने इस बात से इनकार किया कि कांग्रेस में कोई ‘बौरो’ उम्मीदवार है। उनके अनुसार कांग्रेस के सभी उम्मीदवार ‘बोनाफाइड’ हैं। कांग्रेसी नेताओं ने कहा कि एनडीए उनका दुश्मन नंबर एक है लेकिन इसके नाम पर राजद को खुला खेल खेलने की छूट नहीं दी जा सकती है। कांग्रेस के उम्मीदवारों को देखकर राजद और लोजपा के पसीने छूट रहे हैं। इस मौके पर जनता दल यू के कुमुद रांन झा और हरन्द्र दूबे, राजद के रामनरश प्रसाद और लोजपा के चतुभरुज प्रसाद गुप्ता के कांग्रेस में शामिल होने की घोषणा की गई। संवाददाता सम्मेलन में राजद से कांग्रेस में शामिल हुए साधु यादव, गिरिधारी यादव और रमई राम के अलावा फखरुद्दीन, हिन्दकेसरी यादव, लोजपा से शामिल हुए शील कुमार राय और अरविन्द कुमार गुप्ता आदि मौजूद थे। इन नेताओं के दिल्ली से लौटने पर सदाकत आश्रम में कार्यकर्ताओं ने भव्य स्वागत किया। कार्यकर्ताओं ने साधु यादव को मुकुट भी पहनाया। बसपा उम्मीदवारों की सूची जारीड्ढr पटना (हि.ब्यू.)। बहुान समाज पार्टी ने प्रत्याशी बदलने का क्रम जारी रखते हुए रविवार को अंतिम रूप से सभी उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी। सूची में पार्टी ने उत्तर प्रदेश की तर्ज पर बिहार में भी सोशल इन्जीनियरिंग का ख्याल रखा है। राष्ट्रीय महासचिव सह बिहार प्रभारी गांधी आजाद और राजेन्द्र कुमार ने कहा कि सर्वजन समाज का ख्यल रखते हुए बिहार की 40 में 13 सीटें सवर्णों को दी गई हैं। पिछड़ा वर्ग को 10, अति पिछड़ा को 7, अनुसूचित जाति को 6 और अल्पसंख्यकों को चार सीटें दी गई हैं। सवर्णो में सबसे अधिक तवज्जो भूमिहारों को दी गई है। इनके खाते में छह सीटें आई हैं। ब्राह्मणों को चार और राजपूतों को भी दो सीटें मिलीं हैं। पार्टी ने पश्चिमी चंपारण में अपना उम्मीदवार बदल दिया है। पहले यहां से जनमोत्री ममता को टिकट दिया गया था। नई सूची में शंभूनाथ गुप्ता को वहां से प्रत्याशी बनाया गया है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस ने कहा, धर्मयुद्ध