DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सेंटर फॉर डवलपमेंट ऑफ टेलीमेटिक्स ने मनाई अपनी रजत जयंती

सेंटर फॉर डवलपमेंट ऑफ टेलीमेटिक्स (सी-डॉट) ने नई दिल्ली में महरौली स्थित अपने परिसर में  रजत जयंती मनायी। सी-डॉट ने इस तरह भारतीय परिवेश के लिए दूरसंचार तकनीक  के डिजाइन, विकास और शोध एवं उत्पादन के सफर में  25 साल पूरा कर लिये हैं।

इस मौके पर दूरसंचार एवं सूचना तकनीकी राज्यमंत्री  गुरुदास कामत, राष्ट्रीय ज्ञान आयोग के अध्यक्ष सैम पित्रोदा और दूरसंचार एवं आईटी मंत्रालय में सचिव  सिद्घार्थ बेहरा विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद थे। समारोह में भारतीय दूरसंचार जगत की जानी-मानी हस्तियों ने हिस्सा लिया।

इस अवसर पर सी-डॉट के कार्यकारी निदेशक पी वी आचार्य ने कहा, ’’हम एक चौथायी शताब्दी की मंजिल पर आने से गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। सी-डॉट ने इन सालों में तकनीकी के मोर्चे पर अग्रणी स्थिति बनाए रखा है और टेलीकॉम तकनीकी के भारतीयकरण की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान किया है। उसने ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों के बीच डिजीटल खायी को दूर करने, मजबूत तकनीकी ढांचा कायम करने तथा रोजगार के अवसर पैदा करने की दिशा में भी अनेक कदम उठाए हैं।‘‘

उन्होंने कहा, ’’मैं इस मौके पर सरकार तथा दूरसंचार समुदाय-निर्माताओं, वेंडरों और शुभचिंतकों को उनके निरंतर सहयोग के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। इन सभी ने हमारे मिशन को पूरा करने तथा शोध एवं विकास के प्रयासों में अहम योगदान किया है।‘‘

सी-डॉट ने मौजूदा वातावरण को देखते हुए चार प्रमुख दिशाओं में अपना ध्यान केंद्रित करते हुए भविष्य का रोडमैप तैयार किया है और अपने प्रयासों एवं कामों को नए सिरे से एकजुट किया है।

उच्च तकनीकी के क्षेत्र में सी-डॉट गिगाबाइट ऑप्टिकल पैसिव नेटवर्क (जीपीओएन) पर मुख्य जोर दे रहा है ताकि घरों तक ब्रॉडबैंड पाइप दिए जा सकें। वह एसओएचओ तथा नेक्स्ट जनरेशन नेटवर्क (एनजीएन) उत्पादों एवं सेवाओं पर भी विशेष ध्यान दे रहा है।

सी-डॉट भविष्य की अध्ययन परियोजनाएं भी हाथ में ले रहा है जिनमें वन नम्बर शामिल है। इसका मकसद किसी एक मोबाइल निजी नम्बर को सामाजिक सुरक्षा नम्बर के तौर पर इस्तेमाल करना है। इसके अतिरिक्त कॉगनिटिव रेडियो और एडवांस्ड ऑप्टिकल नेटवर्क तकनीक पर भी जोर दिया जा रहा है।

क्या है - सी-डॉट

सी-डॉट दूरसंचार शोध और विकास का अग्रणी केंद्र है। यह देश को व्यापक पैमाने पर अत्याधुनिक तकनीकी वाले किफायती दूरसंचार समाधान देने के लिए प्रतिबद्घ है।

अपने शुरुआती सालों में सी-डॉट ने ग्रामीण भारत में दूरंसचार क्रांति की जिससे गांवों का सामाजिक आर्थिक विकास को बढ़ावा मिला। विकास की इस प्रक्रिया में सी-डॉट ने उपकरण निर्माताओं एवं वेंडरों का एक व्यापक आधार विकसित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सेंटर फॉर डवलपमेंट ऑफ टेलीमेटिक्स ने मनाई रजत जयंती