DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मियां की तान

कहते हैं कि अल्लाह की बनाई इस दुनिया में गाना और रोना सब को आता है। यह अलग बात है कि कुछ लोग गाते हैं तो लगता है रो रहे हैं और रोते हैं तो लगता है क्लासिकल गा रहे हैं। दोनों हालत में मुंह फाड़ना पड़ता है। एक साहब के बारे में सुना कि वह काफी रोने के बाद मुरकियां ले कर गाने लगे। हमारे मौलाना लादेन भी अक्सर जाने कहां-कहां के राग समेट कर गुनगुनाते रहते हैं। सुनने वाले को यही पता नहीं लगता कि ग़ालिब की ग़ाल गुनगुना रहे हैं या मर्सिया पढ़ रहे हैं।

मैंने कई बार टोका कि मियां, या तो खुल कर गाओ या बंद हो जाओ। गुनगुनाते हो तो लगता है, जैसे खाली घड़े में कंकड़ डालकर हिलाए जा रहे हैं। लादेन भड़क उठे बोले- ‘मैं पब्लिक में गला फाड़ने से बेहतर समझता हूं कि गुनगुना कर अपने कलेजे को राहत पहुंचा लो। दो बोल गुनगुनाते ही तबीयत मुगल गार्डन हो जाती है। मैं कोई परवेज मुशर्रफ नहीं हूं कि इतना कहर ढा चुकने के बाद भी जुगलबंदी गा कर महफिल लूट ली। मुझे तो लगता है कि हिटलर भी काफी अच्छा गा लेता होगा और अपनी माशूका ईवा ब्राउन की वाहवाही लूट लेता होगा। नादिरशाह भी अच्छा सिंगर रहा होगा। इतिहास में सिर्फ इनका जिक्र है, इनके गले का नहीं।’

मैंने हैरत से पूछा- यह क्या ऊंची फेंक रहे हो? मुशी मुश और गाना? नौ सौ चूहे खा कर बिल्ली हज को चली। क्यों शेर के मुंह में नर्म घास दे रहे हो? पड़ोसी के खून का प्यासा, आतंकवादियों के खेल का राजनीतिक गरगना गाना गाएगा? मौलाना खुन्ना गए। मुंह में पान इधर से उधर घुमा कर बोले- ‘तुम्हें खुदा समझे। न्यूजपेपर में स्वाइन फ्लू, अरहर की दाल का रेट और प्रियंका चोपड़ा के अलावा न्यूजें भी पढ़ लिया करो। सफा लिखा है कि पूर्व राष्ट्रपति को आजकल संगीत प्रेमियों से खूब वाहवाही मिल रही है। इसकी वजह है कि एक पुराना कैसेट, जिसमें मुशर्रफ मियां ने उस्ताद हामिद अली खां के साथ जुगलबंदी गाई है। पूरे उल्लास के साथ जनाब ने उस्ताद के साथ ‘लागे रे तोरे लागे.. सैंयां नजर लागे’ जोर शोर से गाया।

लोगबाग दांतों तले अंगुली चबा गए कि इमरजेंसी लगाने वाला और जजों को बर्खास्त करने वाला, मस्जिद पर गोली चलवाने वाला इतने सुर में गा भी सकता है। कमाल! अब ब्रिटेन या अरब, जहां भी शरण लेंगे, वहीं मुशी साहब के गाने के स्वर गूंजेंगे। उधर मियां पर ब्रिटेन खुश है। बचाने के लिए कोशिशें तेज हो गई है। आगे की अल्लाह जाने। गाओ जनरल गाओ। जहां भी रहो सुर तानते रहो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मियां की तान