DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोरखपुर एवं आजमगढ़ में बाढ़ की स्थिति गंभीर

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर तथा आजमगढ़ जिलों में बाढ़ की स्थिति अभी भी गंभीर बनी हुई है जबकि अन्य प्रभावित जिलों में पानी घटने से सुधार हुआ है। पिछले 24 घंटे में वर्षा जनित हादसों में बाराबंकी जिले में पांच बहराइच तथा बलिया में दो-दो तथा गोण्डा, लखनऊ और आजमगढ़ में एक-एक व्यक्ति की मृत्यु होने की सूचना है। प्रदेश में वर्षा जनित हादसों में मरने वालों की संख्या 60 से अधिक हो गई है।
 
केन्द्रीय जल आयोग सूत्रों के अनुसार घाघरा नदी बाराबंकी, एलिग्न ब्रिज, बहराइच, कतर्नियाघाट तथा अयोध्या में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है और जलस्तर स्थिर बना हुआ है। शारदा नदी का जलस्तर लखीमपुर खीरी तथा पलियाकला में खतरे के निशान से नीचे है और पानी उतार पर है। राप्ती का जलस्तर बलरामपुर, श्रावस्ती, भिन्गा और सिद्धार्थनगर, बांसी में स्थिर बना हुआ है जबकि बहराइच, काकरधारी में पानी बढ़ रहा है। गोरखपुर के बर्डघाट पर राप्ती का जलस्तर खतरे के निशान से 0.87 मीटर ऊपर बह रहा है।
 
राहत आयुक्त कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार गोरखपुर, महाराजगंज में जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है। जिलों में राहत कार्य युद्ध स्तर पर संचालित किए जा रहे हैं और लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। प्रभावित जिलों में 125 राहत शिविर संचालित किए जा रहे हैं।
 
सूखे की त्रासदी ङोलने के बाद आजमगढ़ जिले में अब बाढ़ का कहर जारी है। जिले की सगड़ तहसील के देवारा क्षेत्र में घाघरा ऊफान पर है और 134 गांव बाढ़ की चपेट में आ गए हैं। जिला प्रशासन ने बचाव एवं राहत कार्य शुरू कर दिए हैं। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में बांध की निगरानी के लिए 10 पुलिस चौकियां स्थापित की गई हैं।
 
उन्होंने बताया कि बहराइच में 205 नावें राहत कार्य में लगाई गई हैं। यहां 21 राहत शिविर भी स्थापित किए गए हैं। राहत कार्यों एवं सुरक्षा के लिए पुलिस बल के साथ एक कम्पनी बाढ़ पीएसी 12 मोटरबोट के साथ कार्यरत हैं। जिले के विभिन्न स्थानों पर बाढ़ पीडितों को राहत पहुंचाने के लिए 21 स्थानों पर जिला प्रशासन द्वारा लंगर चलाए जा रहे हैं। रानीगंज इलाके में कल घाघरा में नाव पलटने से महिला समेत दो लोगों की मृत्यु हो गई।
 
बहराइच जिलें में घाघरा का जलस्तर अभी भी खतरे के निशान से ऊपर है। पिछले 24 घंटे में जिले के 143 गांवों के 536 मजरे बाढ़ से प्रभावित हो गए हैं। करीब दो लाख से अधिक आबादी प्रभावित है। इस अवधि में 464 घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। जिला प्रशासन द्वारा प्रभावित क्षेत्रों में 21 स्थानों पर लंगर चलाया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गोरखपुर एवं आजमगढ़ में बाढ़ की स्थिति गंभीर