DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश के 101 श्रेष्ठ किसानों में 11 बिहारी

 ‘कौन कहता है आसमां में सुराख हो नहीं सकता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो..’। देशभर के 101 सर्वश्रेष्ठ किसानों की सूची में अकेले बिहार के 11 किसानों के नाम शुमार हुए तो सचमुच यही लगा कि दुष्यंत की इन पंक्तियों को बिहारी किसानों ने हूबहू खेतों में उतार दिया है। इनके श्रम की गाथा को उस पुस्तक में जगह मिलेगी जिसे केन्द्र सरकार ने देशभर के किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए छापने का मन बनाया है।

बाढ़, सुखाड़, खाद की किल्लत और बीज की कमी। इन तमाम विषमताओं से जूझते हुए इन किसानों ने खेती की हर विधा में अपना कमाल दिखाया है। धान और गेहूं की परम्परागत खेती से लेकर औषधीय पौधों और जैविक खेती तक में इन्होंने रुचि दिखाई है। सुअर और मछली पालन के अलावा बागवानी में भी देश को नई राह दिखाई है। कृषि मंत्रलय ने कृषि उत्पादन आयुक्त के. सी. साहा  को पत्र लिखकर इन 11 किसानों और उनके फार्में की तस्वीर मांगी है। 

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कृषि मंत्रलय देशभर के किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए एक पुस्तक छापने की तैयारी कर रहा है। पुस्तक में 101 चुनिन्दा किसानों की सफलता की कहानियां होंगी। मंत्रलय से सभी राज्यों को पत्र भेजकर सफल किसानों की सूची के साथ उनके उल्लेखनीय कार्यों पर टिप्पणी मांगी थी।

सरकार की टिप्पणी को प्रमाणित करने के लिए जरूरी कागजात और तस्वीरें भी मांगी गई थी। बिहार मैनेजमेंट एन्ड एक्सटेंशन ट्रेनिंग इन्सटीच्यूट (बामेति) ने राज्य के 55 किसानों के नाम की अनुशंसा की थी जिसमें 11 किसान चुन लिये गये। संस्था के निदेशक डा. आर. के सोहाने ने बताया कि राज्य की यह बड़ी उपलब्धि है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देश के 101 श्रेष्ठ किसानों में 11 बिहारी