DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेनजीर हत्याकांड की जांच के लिए नया दल गठित

बेनजीर हत्याकांड की जांच के लिए नया दल गठित

पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की हत्या के डेढ़ साल बीत जाने के बाद पाकिस्तान सरकार ने उनकी हत्या की जांच के लिए सोमवार को एक नये दल का गठन किया।

नए जांच दल में कानून लागू करने वाले तथा खुफिया अधिकारी शामिल होंगे। इसके प्रमुख संघीय जांच एजेंसी के विशेष जांच समूह के निदेशक होंगे। संघीय जांच एजेंसी ही पिछले साल मुंबई में हुए आतंकवादी हमले की जांच कर रही है।

यह कदम रावलपिंडी की एक आतंक निरोधी अदालत के उस फैसले के मद्देनजर उठाया गया है, जिसने बेनजीर की हत्या से जुड़े मामले की सुनवाई स्थगित कर दी थी। अदालत ने सरकार के अनुरोध पर सुनवाई स्थगित की थी।

नए जांच दल का गठन संयुक्त राष्ट्र द्वारा बेनजीर की हत्या के तथ्यों और परिस्थितियों का पता लगाने के लिए एक जांच आयोग गठित करने के मद्देनजर किया गया है।

आयोग के सदस्य फिलहाल पाकिस्तान में जांच कर रहे हैं। आयोग साल के अंत में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। हालांकि, संयुक्त राष्ट्र ने साफ कर दिया है कि उसके दल को आधिकारिक जांच का दर्जा हासिल नहीं होगा।

डॉन समाचारपत्र के अनुसार पुलिस और एफआईए समेत अन्य कानून लागू करने वाली एजेंसियों ने मामले की अपनी जांच पूरी कर ली है और आरोपपत्र आतंकवाद निरोधी अदालत को सौंप चुकी है। कड़ी सुरक्षा वाले अदियाला जेल में इस हत्याकांड के सिलसिले में पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा चलाया जा रहा है।

नए जांच अधिकारियों की दो अन्य टीमें भी मदद करेंगी। एक दल में एफआईए, सिंध पुलिस और खुफिया ब्यूरो के अधिकारी होंगे जबकि दूसरे में पंजाब और पश्चिमोत्तर सीमांत प्रांत के पुलिस और खुफिया अधिकारी शामिल होंगे।

संयुक्त जांच दल को मदद के लिए अन्य विभागों के किसी भी अधिकारी को लेने की शक्ति होगी। डॉन अखबार ने सोमवार को बताया कि दल इस हफ्ते दोबारा अपनी जांच शुरू करेगा।

हालांकि, पुलिस ने अपनी जांच पूरी कर ली थी और अदालत को आरोप पत्र सौंप दिया था लेकिन एफआईए मामले की दोबारा जांच के लिए अनुमति हासिल करने की कोशिश कर रही है। संघीय सरकार ने भी मामले की एफआईए के जरिए दोबारा जांच कराने के लिए कानून एवं न्याय संभाग से राय मांगी है।

मामले की सुनवाई अदालत द्वारा स्थगित किए जाने के बाद मामले के रिकार्ड एफआईए अधिकारियों को सौंप दिए गए थे। पुलिस ने बेनजीर के जिस बुलेटप्रूफ वाहन और जूते जब्त किए थे उन्हें एफआईए दल को सौंप दिया जाएगा। घटनास्थल से बरामद बेनजीर पर हमला करने में संभावित तौर पर इस्तेमाल पिस्तौल और कुछ खाली खोखे भी पुलिस के पास हैं।

दो बार पाकिस्तान की प्रधानमंत्री रह चुकीं बेनजीर भुट्टो की रावलपिंडी में दिसंबर 2007 में चुनावी रैली को संबोधित करने के बाद हत्या कर दी गई थी। पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने हत्या की साजिश रचने का आरोप पाकिस्तानी तालिबान के प्रमुख बैतुल्ला महसूद पर लगाया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेनजीर हत्याकांड की जांच के लिए नया दल गठित