DA Image
4 अप्रैल, 2020|1:10|IST

अगली स्टोरी

दो टूक (24 अगस्त, 2009)

जोरदार बरसात के बाद त्योहारों का पावन संगम चेहरे खिलाने वाला है। लेकिन तीज-त्योहारों की झड़ी के साथ ही स्वाइन फ्लू की गूंज लोगों को चिंता में डाल रही है। ईद, दशहरा, दीपावली, भैया-दूज.. और इसके साथ ही शादी-ब्याह का सीजन।

आने वाले दिन जश्न और मौज-मेले के दिन हैं लेकिन एच1एन1 वायरस की संक्रामकता की तरफ से लापरवाही महंगी पड़ सकती है। सरकार अपना काम कर रही है, लेकिन इस वायरस के खिलाफ मोर्चे पर हम सभी को जुटना होगा। उत्साह भरने वाले उत्सवों के इस मौसम में स्वाइन फ्लू के खिलाफ हमारी लड़ाई और ज्यादा अनुशासित, सतर्क और नियम-कायदों का पालन करते हुए होगी। यह शपथ इस त्यौहारी मौसम की मांग है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:दो टूक (24 अगस्त, 2009)