DA Image
4 अगस्त, 2020|2:02|IST

अगली स्टोरी

दिल्ली-मुंबई में कचरा प्रबंधन सही नहीं: फिक्की

दिल्ली-मुंबई में कचरा प्रबंधन सही नहीं: फिक्की

उद्योग मंडल फिक्की का कहना है कि देश में सर्वाधिक शहरी कचरे पैदा करने वाले दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में इनके प्रबंधन के लिये बेहतर वैज्ञानिक सुविधा उपलब्ध नहीं है।

फिक्की के अनुसार सर्वाधिक कचरा पैदा करने वाले दिल्ली, फरीदाबाद, ग्रेटर मुंबई, जयपुर, लखनऊ, पुणे और सूरत जैसे शहरों में 80 फीसदी से अधिक कचरा लैंडफिल (कूड़ा डालने वाला जगह) में डाल दिये जाते हैं।

उद्योग मंडल के अनुसार, वास्तव में मुंबई में जहां 100 फीसदी कचरा कूड़ा स्थल पर डाल दिये जाते हैं। वहीं दिल्ली में यह 94 फीसदी है। सर्वे में शामिल 22 शहरों में 14 अपने ठोस कचरे का 75 फीसद हिस्सा कूड़ा स्थल पर डालते हैं। यह 15,785 टन दैनिक के बराबर है।

उद्योग मंडल के अनुसार विशेष कूड़ा स्थल के अभाव में कचरा शहर के बाहरी इलाकों में खुले में पड़ा रहता है जो स्वास्थ्य के लिये काफी नुकसान दायक है। फिक्की की रिपोर्ट के अनुसार केवल छह शहरों में स्वच्छ लैंडफिल हैं, जबकि दिल्ली, मुंबई और कानपुर जैसे 10 शहरों में ऐसी सुविधा नहीं है।

एक अनुमान के मुताबिक एक टन कचरा 55 घन मीटर गैस पैदा करता है और 12,000 घन मीटर गैस एक मेगावाट बिजली पैदा कर सकती है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:दिल्ली-मुंबई में कचरा प्रबंधन सही नहीं: फिक्की