DA Image
29 जनवरी, 2020|11:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अगर वोट चाहिए तो..बंग समाज के हितों का रखो ध्यान

22 मार्च को लालपुर स्थित बीआइटी एक्सटेंशन सेंटर में बंगाली एसोसिएशन, झारखंड की केंद्रीय कमेटी की बैठक हुई। डॉ निमाई दास बनर्जी की अध्यक्षता में विभिन्न राज्यों से उपस्थित बंग समुदाय के प्रतिनिधियों ने निर्णय लिया कि आगामी लोकसभा चुनाव में वैसे प्रत्याशियों को वोट दिया जायेगा, जो अपने घोषणा पत्र में बंग समुदाय के हितों की रक्षा का उल्लेख करेगा। समुदाय ने पार्टी को नहीं, बल्कि प्रत्याशी को वोट देने का निर्णय लिया। इस संबंध में हर जिला के प्रतिनिधि को जरूरी दिशा-निर्देश दिये गये। सदस्यों ने मांग की कि स्कूलों में दाखिला लेते समय हर विद्यार्थी को उसकी मातृभाषा का उल्लेख करना होगा। 20 प्रतिशत से ज्यादा बंगभाषी विद्यार्थी रहने पर उस स्कूल में बांग्ला भाषा में पढ़ाने की व्यवस्था करनी होगी। सचिव तपन राय ने संस्था की राज्य कमेटी की निष्क्रियता पर चिंता जतायी।ड्ढr मुसलमानों को सियासत में वाजिब भागीदारी दोड्ढr रांची। रविवार को तसलीम महल में झारखंड मुसलिम मजलिस मुशावरत की बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता मौलाना अहमद अली कासमी ने की। बैठक में वक्ताओं ने कहा कि पूर देश में मुसलमान हाशिये पर हैं। इनको विकास की मुख्य धारा में जोड़ने के लिए सत्ता में हिस्सेदारी देने की जरूरत है। शैक्षणिक संस्थानों व नौकरियों में आबादी के हिसाब से आरक्षण देने तथा राज्य में केंद्र की तर्ज पर स्वतंत्र अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय की स्थापना की मांग की गयी। वक्ताओं ने कहा कि रंगनाथ मिश्र की सिफारिश को लागू करने की भी मांग की गयी है। कहा गया कि लोकसभा चुनाव की घोषणा के उपरांत देश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तत्वों द्वारा धार्मिक भावनाएं उभारने का प्रयास कर सद्भाव बिगाड़ने की कोशिश हो रही है। इसकी निंदा की गयी। बैठक में खुर्शीद हसन रूमी, मौलाना तहाीबुल हसन, मौलाना मंजूर कासमी, मौलाना तलहा नदवी, मौलना खालिक, हाजी नईम, अब्दुल लतीफ, अब्दुल खालिक, कलाम अंसारी, अकीलुर्रहमान, नसीर अफसर, डॉ तनवीर अहमद सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: अगर वोट चाहिए तो..बंग समाज के हितों का रखो ध्यान