DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कंधार प्रकरण की जानकारी आडवाणी को थी: जसवंत

कंधार प्रकरण की जानकारी आडवाणी को थी: जसवंत

दशक भर पुरानी चुप्पी तोड़ते हुए पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह ने शुक्रवार को यह कहकर लालकृष्ण आडवाणी के लिए परेशानी खड़ी कर दी कि उन्हें इस बात की पूरी जानकारी थी कि वह (जसवंत) इंडियन एयरलाइंस के अपहृत विमान के यात्रियों की रिहाई के बदले तीन आतंकवादियों को लेकर कंधार जा रहे हैं।

जसवंत ने कहा कि कंधार विमान प्रकरण के समय उन्होंने तत्कालीन गृह मंत्री आडवाणी के इस बयान का बचाव किया था कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं थी। गौरतलब है कि आडवाणी ने दावा किया था कि उन्हें अपहृत यात्रियों के बदले आतंकवादियों को रिहा करने अथवा उन आतंकवादियों को जसवंत सिंह के साथ कंधार ले जाने के फैसले के बारे में कोईजानकारी नहीं थी।

जसवंत ने कहा कि आडवाणी को इंडियन एयरलाइंस के अपहृत विमान पर सवार 160 बंधक यात्रियों की रिहाई के बदले आतंकवादियों को छोड़े जाने के फैसले की जानकारी थी। यह पूछने पर कि क्या आडवाणी को पता था कि वह (जसवंत) तीन आतंकवादी लेकर कंधार जा रहे हैं, दो दिन पहले भाजपा से निष्कासित सिंह ने कहा कि हां, उन्हें जानकारी थी।

सिंह से सवाल किया गया कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान यह क्यों कहा कि आडवाणी को इस प्रकरण की जानकारी नहींथी और क्या उन्होंने आडवाणी का बचाव किया था। यह कहे जाने पर कि उनका यह कहना गंभीर बात है कि उन्होंने आडवाणी का बचाव किया था, जसवंत ने कहा कि मुझे अफसोस है कि मैंने ऐसा किया था।

जसवंत ने कहा कि उन्होंने चुनाव प्रचार के दौरान इसका खुलासा नहीं किया। मैंने इसे छिपाने का प्रयास किया। मैंने ऐसाअपनी प्रतिबद्धता और निष्ठा की भावना के तहत किया। यह पूछे जाने पर कि क्या आडवाणी का बचाव करने का उन्हें अब खेद है, उन्होंने कहा कि मुझे कोई खेद नहीं है क्योकि वह कदम मैंने ही उठाया था लेकिन मैं चुनाव प्रचार का अंग था। मैं इस बात को कैसे रखता।

उन्होंने कहा कि कंधार जाने के निर्णय से आडवाणी अनभिज्ञ नहीं हो सकते थे क्योंकि मैंने कैबिनेट में इसकी घोषणा कीथी। यह पूछे जाने पर कि क्या आडवाणी उस समय उपस्थित थे, उन्होंने कहा कि हां, वह थे और बिना गृह मंत्री की अनुमति और कागजात पर हस्ताक्षर के बिना आतंकवादियों को जेल से कैसे रिहा किया जा सकता था। इस सवाल पर कि बाद में उन्होंने इस पर परदा क्यों डाला, उन्होंने कहा कि मैंने अपने एक साथी का बचाव किया।

सिंह ने कहा कि जब आडवाणी ने इस तथ्य से इंकार किया तो वह काफी दुखी हुए लेकिन मैंने कभी जिम्मेदारी को किसी दूसरे पर डालने का प्रयास नहीं किया। मैंने इस बारे में कभी मुंह नहीं खोला क्योंकि यह बहुत दुखदायी है। सिंह ने आडवाणी की परोक्ष आलोचना करते हुए सवाल किया कि अमतसर से अपहत विमान को उड़ान भरने की अनुमति क्यों दी गई क्योंकि ऐसा करने से खेल खत्म हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कंधार प्रकरण की जानकारी आडवाणी को थी: जसवंत