DA Image
22 जनवरी, 2020|4:35|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन पॉवर प्लांट ठप, कई इलाके अंधेरे में डूबे

शुक्रवार शाम आई तूफानी बारिश के चलते राजधानी की बिजली व्यवस्था भी चरमरा गई। इसके चलते जहां राजधानी के तीन पॉवर प्लांट ठप हो गए, वहीं तारें टूटने या लोकल फाल्ट के चलते कई इलाकों में बिजली गुल हो गई। हालांकि बारिश की वजह से बिजली की मांग घट गई।

दोपहर बाद आई तूफानी बारिश की वजह से राजघाट पावर प्लांट की दोनों यूनिटें, प्रगति पावर प्लांट की एक यूनिट और गैस टरबाइन पावर प्लांट की चार यूनिटें ठप हो गई। हालांकि दिल्ली ट्रांसको का दावा है कि आधे घंटे में ही सभी यूनिटें चालू हो गई, परंतु इसके चलते तीन सौ मेगावाट से अधिक उत्पादन गिरने की वजह से कई इलाकों में बिजली आपूर्ति चरमरा गई।

उधर पूर्वी दिल्ली के प्रीत विहार के ब्लॉक जी, सी व ई में तीन पेड़ तारों पर गिर गए। इसके चलते इस इलाके में बिजली गुल हो गई। समाचार लिखे जाने तक लगभग चार घंटे बाद भी बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई। पहाड़गंज के कई इलाकों में भी लोकल फाल्ट के चलते बिजली की आपूर्ति ठप हो गई।

इलाके के लोगों का आरोप है कि बिजली कब आएगी, यह पूछने के लिए लोग बीएसईएस दफ्तरों में फोन करते रहे, लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया, जबकि पूरा इलाका समाचार लिखे जाने तक अंधेरा डूबा रहा। लोगों ने बताया कि होटलों और गेस्ट हाउसों में निरंतर बिजली की सप्लाई की जाती रही।

दक्षिण और बाहरी दिल्ली के कई इलाकों में तूफान के वक्त बिजली चली गई और दो से तीन घंटे बाद आई। नजफगढ़ क्षेत्र की कई कालोनियों में देर रात तक बिजली नहीं आई। बिजली कंपनियों का कहना है कि लोकल फाल्ट जल्द से जल्द दूर करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

हालांकि दोपहर तक गर्मी और उमस के चलते राजधानी में बिजली की अधिकतम मांग 3971 मेगावाट तक पहुंच गई थी, लेकिन बरसात के बाद बिजली की मांग 2300 से 2400 मेगावाट के आसपास पहुंच गई।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:तूफानी बारिश से बिजली गुल,