class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमसीडी चलाएगी, पोस्टरों के खिलाफ अभियान

एमसीडी सोमवार से पोस्टरों के खिलाफ अभियान शुरू करने जा रही है। इस दिन निगम पोस्टर मुक्त दिवस मनाएगा। अभियान का मकसद राष्ट्रमंडल खेलों से पहले राजधानी को साफ व सुंदर बनाना है।

निगमायुक्त के.एस.मेहरा ने यह घोषणा करते हुए कहा कि पोस्टर व बिल दीवारों पर लगाने से दिल्ली भद्दी लगती है। इस मौसम में अभियान शुरू करने से दीवारों पर लगे पोस्टर वगैरह आसानी से उतारे जा सकते हैं। उन्होंने लोगों खासतौर पर गैर सरकारी संगठनों, व्यापारियों व रिहायशी कल्याणकारी संस्थाओं से अपील की है कि वे अभियान में सहयोग करें।

उन्होंने बताया कि मुख्यालय और क्षेत्रीय कार्यालयों से संगठित दल अपने-अपने क्षेत्रों में दीवारों पर लगे हुए पोस्टर वगैरह उतारेंगे। यह कार्यवाही केवल अभियान तक ही सीमित नहीं रहेगी बल्कि उसके बाद भी जारी रहेगी। उन्होने कहा कि दिल्ली में पोस्टर विरोधी कानून इसी साल मार्च में लागू हो गया है, जिसके तहत संपत्ति पर पोस्टर वगैरह लगाकर गंदा करना संज्ञेय अपराध है और इसके लिए एक साल की कैद या 50 हजार रुपये तक जुर्माना अथवा दोनों का दंड दिया जा सकता है।

निगमायुक्त ने साफ किया कि संपत्ति या दीवारों को गंदा करने की परिभाषा में वह सब शामिल है जो संपत्ति के मालिक या धारक के नाम और पते के अलावा लोगों को लिखा दिखाई दे। वह चाहे स्याही, चॉक, पेंट या अन्य सामग्री से लिखा हो तथा वह संपत्ति के सौदंर्य को बिगाड़ती हो।

नए कानून के तहत मान्यता प्राप्त स्थलों पर लगे विज्ञापनों पर लागू नहीं होंगे। उन्होंने दिल्ली पुलिस से भी सहयोग का अनुरोध किया है तथा आदतन अपराधियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर उचित कार्यवाही करने के लिए कहा है। कानून के तहत कोई भी व्यक्ति इस बारे में पुलिस में शिकायत दर्ज करा सकता है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एमसीडी चलाएगी, पोस्टरों के खिलाफ अभियान