DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शहरी एपीएल को अब 20-20 किलो गेहूं

शहरी क्षेत्र में गरीबी रेखा ऊपर (एपीएल) के परिवारों को जन वितरण प्रणाली की दुकानों के माध्यम से 20-20 किलो गेहूं मिलेगा। केन्द्र सरकार ने लगभग तीन साल के बाद बिहार में एपीएल परिवारों के लिए गेहूं का कोटा बढ़ाया है। इससे महंगाई से जूझ रहे परिवारों को थोड़ी राहत जरूर मिलेगी। खाद्य एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने सितम्बर से नवम्बर तक के लिए जिलों को उनके यहां एपीएल आबादी के हिसाब से गेहूं का आवंटन दे दिया है। 

केन्द्र वर्ष 2006 से ही एपीएल के लिए प्रति माह एक हजार से चार हजार टन गेहूं भेज रहा था। नतीजा बिहार में एपीएल कोटे से गेहूं का उठाव नगण्य हो गया। गत दिनों 14,52,928 शहरी एपीएल परिवारों के लिए 53,496 टन गेहूं भेजा दिया गया। इसी आधार पर विभाग ने राशन दुकानदारों के लिए एपीएल कोटे के गेहूं की कीमत का बैंक ड्राफ्ट जमा करने की समय सीमा 25 अगस्त से बढ़ाकर 31 अगस्त कर दिया है। सभी जिला आपूर्ति पदाधिकारियों को अनाज का समय पर शत-प्रतिशत उठाव कराने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शहरी एपीएल को अब 20-20 किलो गेहूं