DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एसआईपी-एसटीपी

आज हमें किसमें निवेश करना मुफीद रहेगा, इस पर प्रस्तुत है सलाह।

- इस दौर में जानकार सिस्टेमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (एसआईपी) में निवेश करने को तरजीह दे रहे हैं। इसका मुख्य कारण बाजार की अस्थिरता है।

- एसआईपी के अंतर्गत एक निश्चित पैसा प्रत्येक माह निवेश करना होता है, इससे निवेश का क्रम टूटता नहीं है।

- कम अवधि में भले ही एसआईपी उतना फायदेमंद न लगे, लेकिन जब बात लंबे समय की होती है, तो यह प्रभावशाली साबित होता है। 

- एसआईपी में निवेश का एक फायदा ये है कि इसमें निवेशक को फायदा एक स्थिति में होना बंद होता है, जब निवेश का एक हिस्सा बेहतर न कर रहा हो। संभवत: यह हिस्सा तब खरीदा गया होगा, जब एनएवी (नेट एसेट वैल्यू) ज्यादा रही होगी। ऐसी स्थिति में यूनिट खरीदना तब मुफीद रहेगा, जब उनकी एनएवी वल्यू गिर रही हो। उस स्कीम की अधिकाधिक यूनिट लें।

- एसआईपी के लिहाज से एक बात फायदेमंद यह है कि जब बाजार में थोड़ा सा भी परिवर्तन होता है, उस दौरान एसआईपी की सहायता से आप ज्यादा पैसे कमा सकते हैं।

- इस समय सिस्टेमेटिक ट्रांसफर प्लान (एसटीपी) भी एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। मान लीजिए कि आपको दो लाख रुपए एक बार में निवेश करने हैं, तो ऐसे में आप एसटीपी ले सकते हैं और रोजना एक हजार रुपए डेली ट्रांसफर अमाउंट में डाल सकते हैं। ऐसे में आपको कम से कम दो सौ दिन राहत के मिल सकते हैं।

- डेली एसटीपी की स्थिति से आप बाजार की अस्थिरता का फायदा उठा सकते हैं और वहीं लिक्विड फंड में उन्हें कुछ फायदा तो मिलेगा ही। लेकिन एक बात ध्यान रखें कि म्यूचुअल फंड में इक्विटी का रिस्क होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एसआईपी-एसटीपी