DA Image
22 फरवरी, 2020|12:43|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बहती के बहाने जबर्दस्त कर चोरी

प्रदेश में वाणिज्य कर विभाग द्वारा चेक पोस्ट हटाए जाने के बाद से कर चोरी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। बहती के बहाने व्यापारी कर चोरी को आसानी से अंजाम दे रहे हैं। खासकर गौतमबुद्धनगर की सीमा तीन राज्यों के साथ जुड़ी होने के कारण विभाग को खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है। हालांकि अधिकारी इससे इनकार करते हुए कहते हैं कि ऐसे व्यापारियों को पकड़ने के लिए मोबाइल स्क्वायड को लगाया गया है।

पिछले महीने गौतमबुद्धनगर, गाजियाबाद से शासनादेश के बाद सभी चेकपोस्ट को खत्म कर दिया गया। इसके बाद बहती के नाम पर कर चोरी के मामले बढ़ गए। पहले बहती को राज्यों के चेकपोस्ट पर अधिकारी देखते थे। इसके बाद उस गाड़ी को सीमा से बाहर जाने दिया जाता था।

अब चेकपोस्ट नहीं होने के कारण बहती के निगरानी की सारी जिम्मेदारी मोबाइल स्क्वॉयड को मिल गया है। मोबाइल स्क्वॉयड की कम संख्या बहती के निगरानी में आड़े आ रही है।

विभाग से मिली जानकारी के अनुसार पिछले दो महीने में चालीस से अधिक मामले इस तरह के पकड़े गए हैं। बहती के इस दुरूपयोग से विभाग को लाखों रुपए का नुकसान हो रहा है। वहीं व्यापारी इसका लाभ लेकर दूसरे राज्य के माल को बगैर टैक्स चुकाए बाजार में बेच देते हैं।

वाणिज्य कर विभाग के एडिशनल कमिश्नर मो. मुस्तफा ने बताया कि बहती के बहाने कर चोरी के कुछ मामले सामने आ रहे हैं। चेक पोस्ट खत्म होने के बाद नई व्यवस्था में कुछ समस्याएं हैं। इन सभी को जल्द ही दूर कर लिया जाएगा।

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:बहती के बहाने जबर्दस्त कर चोरी