DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर प्लॉप रही ग्रुप हाउसिंग स्कीम

अथॉरिटी की ग्रुप हाउसिंग स्कीम एक बार फिर असफल साबित हुई। ग्यारह प्लॉटों की इस स्कीम में सिर्फ तीन प्लॉटों के लिए छह आवेदन आए। सेक्टर-46, 121 व 135 स्थित तीन प्लॉटों के लिए दो-दो आवेदनों को मिलाकर कुल छह आवेदन आए। बुधवार को इस स्कीम की टेक्निकल बिड खुली। इन कंपनियों द्वारा दिए गए दस्तावेजों की जांच कर फाइनेंसियल बिड खुलेगी।

अभी इसमें एक से डेढ़ माह का वक्त लग जाएगा। इससे पहले मई-जून में निकाली गई ग्रुप हाउसिंग स्कीम का भी यही हश्र हो चुका है।  सेक्टर-137 में छह प्लॉटों व 120, 46, 121 व 135 में एक-एक प्लॉटों की इस स्कीम को 27 जुलाई को लांच किया गया।

पहले इसकी टेक्निकल बिड 17 अगस्त को खुलनी थी, लेकिन स्कीम में आवेदन न आने के कारण इसकी अंतिम तिथि व टेक्निकल बिड खुलने की तिथि बढ़ाकर 19 अगस्त कर दी गई है। इसके बावजूद सिर्फ छह आवेदनों को देखकर अथॉरिटी के अफसर हैरानी में हैं।

गौरतलब है 51 हजार से एक लाख वर्ग मीटर एरिया तक के इन प्लॉटों की रिजर्व प्राइस सेक्टर-46 में 29150 रुपए, सेक्टर-121 में 20450 रुपए, सेक्टर-135 में 20960 रुपए व सेक्टर-120 व 137 में प्लॉटों की कीमत 20400 रुपए प्रति वर्ग मीटर रखी गई है। इससे पहले सेक्टर-56 व चार अन्य प्राइम लोकेशन के सेक्टरों में ग्रुप हाउसिंग स्कीम फ्लॉप हो चुकी है। यह हालत प्लॉटों के भुगतान को लेकर अथॉरिटी से कई तरह की राहत मिलने का बाद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ग्यारह प्लॉटों में से सिर्फ तीन पर आवेदन