DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फर्जी मुठभेड़ मामले में दरोगा को दस वर्ष सश्रम कारावास

बिहार में गोपालगंज जिले की एक सत्र अदालत ने आनंद पांडेय फर्जी मुठभेड़ मामले में आज जिले के कटैया थाना के तत्कालीन दरोगा विनय पाल को दस वर्ष के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। 


अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश तृतीय विनय कुमार सिंह ने मामले में दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद आनंद पांडेय को फर्जी मुठभेड़ के मामले में दोषी करार देते हुए तत्कालीन दरोगा विनय पाल को यह सजा सुनाई है।
 मामले के अनुसार 16 अगस्त 2000 को कटैया थाना के लोहटी गांव में पुलिस और अपराधियों के बीच मुठभेड़ के दौरान घबरा कर भाग रहे आनंद पांडेय को पुलिसकर्मियों ने गोली मार दी थी। जिससे उसकी मौत हो गई। इस संबंध में मृतक के पिता ने संबंधित थाने में एक मामला दर्ज कराया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फर्जी मुठभेड़ मामले में दरोगा को दस वर्ष सश्रम कारावास