DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्रतिबंध हटने से मांसाहार शौकीनों ने ली राहत की सांस

जैन पर्यूषण पर्व के दौरान नौ दिन तक बूचड़खाने तथा मीट मुर्गे की दुकानें बंद करने के आदेश को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा वापस लिये जाने के बाद शहर के मीट मुर्गा व्यापारियों के साथ साथ मांसाहार शौकीनों ने भी राहत की सांस ली है।
    

जिलाधिकारी अनिल सागर ने बताया कि प्रदेश सरकार ने जैन पर्यूषण पर्व पर पशु वध तथा मांस विक्रय पर नौ दिनों तक रोक लगाने संबंधी अपने शासनादेश को तत्काल प्रभाव से निरस्त कर दिया है और अब बूचड़खानों में पहले की तरह जानवर कट सकेंगे तथा मीट और मुर्गे की दुकाने भी खुल सकेंगी । इसके साथ ही नगर निगम के अधिकारियों को भी निर्देश दे दिये गये है कि वह मीट और मुर्गे की दुकानों को बंद न करवायें और बूचड़खानों में जानवर भी कटने दें । कानपुर में सरकार के इस आदेश के खिलाफ आंदोलन कर रहे समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी ने कहा कि वह इस आदेश के खिलाफ सरकार के आला अधिकारियों से मिले थे और उन्हें बताया था कि दो दिन बाद पवित्र माह रमजान का महीना शुरू हो जाएगा और इस आदेश से मुस्लिम समाज को काफी परेशानी हो जायेंगी ।
   
उन्होंने बताया कि सरकार द्वारा आदेश वापस लिया जाना केवल मुर्गे और मीट के व्यापार में लगे हजारों छोटे दुकानदारों और व्यापारियों की जीत ही नही हुई है बल्कि मुस्लिम समाज को भी इससे काफी राहत मिली है। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आदेश वापस लिये जाने के बाद आज कानपुर में मीट और मुर्गे की दुकानें एक बार फिर खुल गयी है और नान वेज के शौकीन खुशियां मना रहे है ।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्रतिबंध हटने से मांसाहार शौकीनों ने ली राहत की सांस