DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बड़े मौके पर खफा हुए शाहरुख खान

बड़े मौके पर खफा हुए शाहरुख खान

शाहरुख खान की अमेरिकी एयरपोर्ट पर कथित लंबी तलाशी को लेकर मचे बवाल के बुलबुले खत्म होते तो दिख रहे हैं, लेकिन साथ ही इस तरह की सवाल भी उठने लगे हैं कि  9/11 के बाद अमेरिका की दर्जनों यात्राएं कर चुके शाहरुख को पहली बार क्यों लगा कि अमेरिका ने उन्हें खान समझ कर दो घंटे नेवार्क एयरपोर्ट पर (हालांकि अमरीकी एयरपोर्ट प्रशासन के मुताबिक 66 मिनट) लटकाया गया? क्या यह उनकी नई फिल्म ‘माइ नेम इज खान’ के प्रचार का उनके मीडिया प्लानरों का प्लान था?

उक्त घटना के बाद शाहरुख का मुंबई स्थित पीआर (अंग्रेजी की एक फिल्मी पत्रिका के एक पूर्व पत्रकार उनके मुख्य मीडिया मैनेजर हैं) डिपार्टमेंट उससे अधिक सक्रिय हो गया, जिस तरह उनकी किसी नई फिल्म के रिलीज होने के पहले सक्रिय होता है। भारतीय समय के हिसाब से लगभग सभी खबरिया चैनलों और अखबारों से बात करने के लिए शाहरुख पहली बार चैनलों से अधिक इच्छुक दिखे और अमेरिका में ब्रह्म मुहुर्त तक जाग कर लोगों को फोन करते रहे। ऐसा क्यों हुआ? अमेरिका जाने वाले अनगिनत मुसलमानों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रक्रिया से रोज गुजरना पड़ता है। शाहरुख उनके पक्ष में बोलते कभी क्यों नहीं सुने गए?

आमतौर पर कई अलग-अलग कैंपों में बंटे बॉलीवुड में विरोधी कैंप द्वारा शाहरुख की खिंचाई (जैसा अमर सिंह या सलमान खान ने किया) में ताज्जुब को कोई बात नहीं, लेकिन जिस तरह से शाहरुख ने इस मामले को तूल दिया, उसके समर्थन में बॉलीवुड में तटस्थ कही जाने वाली हस्तियां भी सामने नहीं आईं। एक ऐसे ही व्यक्ति ने ‘हिन्दुस्तान’ से कहा, ‘ बड़े स्टार चाहते हैं कि उन्हें हर परिस्थिति में विशेष दज्र मिले। अमेरिका की उनकी अनगिनत यात्राओं में अगर उनके साथ कुछ अनचाहा हो भी गया हो तो भी इस मामले को बढ़ाना नहीं था। जिस देश में हमारे रक्षा मंत्री तक की तलाशी ली जाती हो, उनके लिए शाहरुख क्या चीज हैं?’

शाहरुख के लिए अमेरिका का आर्थिक महत्व  है। उनकी फिल्में बड़े स्तर पर अमेरिका के शहरों में रिलीज होती हैं और अमेरिका में सबसे अधिक धंधा करने वाली अब तक 10 फिल्मों में शाहरुख की 5 फिल्में (ओम शांति ओम, कभी अलविदा न कहना, कभी खुशी कभी गम, वीर जरा और देवदास) हैं और इन्होंने कुल 100 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है। क्या वे अमेरिका को छोड़ सकते हैं? अपनी नई फिल्म (माइ नेम.) के प्रचार के लिए शाहरुख इतनी बड़ी नौटंकी करें, इसकी संभावना शायद कम है लेकिन उनके जानने वालों की मानें तो अपने विशालकाय इगो को सहलाने के लिए वह ऐसा जरूर कर सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बड़े मौके पर खफा हुए शाहरुख खान