DA Image
25 फरवरी, 2020|6:01|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टेमिफ्लू खतरनाक अगर..

एक ब्रिटिश अध्ययन में विशेषज्ञों ने स्वाइन फ्लू के इलाज के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले टेमिफ्लू के बच्चों (विशेषकर 12 वर्ष से कम) पर इस्तेमाल को लेकर गंभीर चिंता जताई है। इसकी वजह से बच्चों में बच्चों में उल्टी, डिहाइड्रेशन और अन्य बीमारियां हो सकती है।

जानकारों की सलाह है कि दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों को टेमिफ्लू नहीं देना चाहिए। वहीं दो से 12 वर्ष तक के बच्चों को ये दवा देते वक्त एहतियात बरतनी चाहिए। साथ ही इसके अनियिमत डोज के कारण किडनी खराब होने की भी संभावना रहती है। उस ड्रग के साइड इफेक्ट में उबकाई आना, इनसोमनिया और दुस्वप्न जसी समस्याएं होती हैं।

हालांकि विशेषज्ञ इस दवा को प्रतिबंधित करने की ताकीद नहीं करते। उनका कहना है कि यह दवा सिर्फ उन्हीं बच्चों को दी जानी चाहिए जो एच1एन1 से पीड़ित हों और जिनको सांस लेने में ज्यादा परेशानी आ रही हो। सरकार ने केमिस्ट की दुकानों पर टेमिफ्लू बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया है, लेकिन इस दवाई की कालाबाजरी एक बड़ी समस्या हो सकती है।

ध्यान रखें

-अगर आपको टेमिफ्लू लेने के बाद दिक्कत महसूस रही है मसलन एलर्जी, तो ऐसे में कोताही न बरतें, डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। 
-अगर आप गर्भवती है या फिर नर्स है, तो इलाज के दौरान चिकित्सक को ये जरूर बताएं
-जो लोग किडनी, हृदय या श्वास संबधी समस्या से पीड़ित है, वो टेमिफ्लू शुरू करने से पहले डॉक्टर को अपनी बीमारी के बारे में जरूर बताएं।
-अगर आप अन्य कोई दवा ले रहे हैं, तो इसकी भी जानकारी चिकित्सक को अवश्य दें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:टेमिफ्लू खतरनाक अगर..