DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्पिनिंग

फिटनेस सेंटर में सेहत बनाने के हिसाब से रखी गई इन साइकिलों पर वर्क आउट करना ‘स्पिनिंग’ कहलाता है। स्पिनिंग साइकिल आम साइकिलों से अलग होती हैं। इसमें आप टाइम फिक्स कर सकते हैं बिल्कुल एक ट्रेडमील की तरह। इसमें आप स्पीड कंट्रोल कर सकते हैं और ब्रेक भी लगा सकते हैं।

कई फिटनेस ट्रेनर्स का मानना है कि स्पिनिंग भी आम साइकिल चलाने जैसा ही है। यह आपके पूरे शरीर के वर्क-आउट का अच्छा विकल्प है। स्पिनिंग खासकर उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद साबित होती है जो लोग अपनी कमर और जांघों की जमी चर्बी कम करना चाहते हैं।

‘स्पिनिंग’ की शुरुआत दस मिनट के वार्मअप से की जाती है जो आपके शरीर के मेटाबोल्जिम, मांसपेशियों और खून के तापमान को सही करने में मदद करती हैं। उसके बाद शुरू होता है व्यायाम जो लगभग 20-25 मिनट का होता है। इससे शरीर में जमी हुई लैक्टिक एसिड घुलने लगती है।

स्पिनिंग ऐसी एक्सरसाइज है जिसमें आप अपनी मांसपेशियों में कड़ापन महसूस नहीं करेंगे। 25-30 मिनट की स्पिनिंग के बाद अपने आप को रिलैक्स करना जरूरी होता है। यह स्पिनिंग एक्सरसाइज सबसे पहले न्यूजीलैंड में शुरू हुई थी।

स्पिनिंग का बेहतर रूप है-‘आरपीएम’। यह स्पिनिंग से थोड़ा मुश्किल होता है, इसमें आपको ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। लेकिन 20 से 50 साल का कोई भी व्यक्ति या महिला इसे आसानी से कर सकती है। आरपीएम हाई-एनर्जी वर्कआउट है और यह एक बार में शरीर की 500 से 800 कैलोरी कम करने में सहायता करता है। यह आपके दिल को मजबूत रखने में भी मदद करता है और आपके पैर और कमर को सही शेप में रखने में भी सहायता करता है। दूसरे व्यायाम की तरह इस व्यायाम को शुरू करने से पहले भी डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्पिनिंग