DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पर्यटन विकास के लिये तैयार किया जा रहा मास्टर प्लान

हिमाचल प्रदेश में पर्यटकों की सुरक्षा और सुविधा के लिए पर्यटक सुरक्षा बल का गठन किया जायेगा। राज्य की पर्यटन सचिव मनीषा नंदा ने मंगलवार को यहां पर्यटन मंत्रियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि प्रस्तावित बल राज्य पुलिस तथा पर्यटकों के बीच कड़ी का काम करेगा। पर्यटक सुरक्षा बल पर्यटकों की सुरक्षा, सहायता और सलाह के लिए समर्पित बल के रूप में काम करेगा।
 
उन्होंने कहा कि राज्य की यात्रा पर आने वाले पर्यटकों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए राज्य सरकार ने मौजूदा 57 हेलीपैडों के अधिक से अधिक उपयोग का फैसला किया है। इसके लिये हेलीटैक्सी सेवा शुरू करने पर भी विचार किया जा रहा है। इससे राज्य के दुर्गम और पिछड़े इलाकों में भी पर्यटन को बढ़ावा दिया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पर्यटन क्षेत्र के दीर्घकालिक विकास के लिए 20 साल का पर्यटन मास्टर प्लान भी तैयार कर रही है।
 
पर्यटन सचिव ने बताया कि ग्रामीण एवं पिछले इलाकों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ‘होम स्टे’ योजना को मूल्य वर्धित कर (वट) से मुक्त किया गया है तथा होम स्टे परिसरों के बिजली पानी कनेक्शन भी घरेलू दर पर प्रदान किए जा रहे हैं। उन्होंने केन्द्र सरकार से पहाड़ी क्षेत्रों की भौगोलिक परिस्थितियों के मद्देनजर पर्यटन ढांचागत विकास परियोजनाओं की निर्माण अवधि बढ़ाने तथा लागत में वृद्धि को देखते हुए होटल प्रबंधन संस्थान एवं फूड क्राफ्ट इंस्टीटच्यूट की वास्तविक निर्माण लागत राशि राज्य को प्रदान करने का अनुरोध किया।

मनीषा नंदा ने बताया कि वर्ष 2008 में राज्य में पर्यटकों की संख्या में 10 से 12 प्रतिशत तक वृद्धि हुई। इस दौरान राज्य में चार लाख विदेशी पर्यटकों सहित कुल 18 लाख पर्यटकों ने राज्य का भ्रमण किया। राज्य में इस समय 1900 पंजीकृत होटल हैं जिनमें 22 हजार कमरे तथा 45 हजार बिस्तरों की क्षमता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हिमाचल में बनेगा पर्यटक सुरक्षा बल