DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कर्मचारियों की कमी को झेल रहा है डाक विभाग, पौड़ी डाकघर प्रखंड में है समस्या

डाकपाल सहायकों, लेखाकार, डाक सहायक, पास्टमैन ग्रुप डी के कर्मचारियों की कमी के कारण पौड़ी डाकघर प्रखंड में दैनिक कार्य व्यवस्था चरमरा गयी है। कर्मचारियों के टोटे के कारण ही समाज कल्याण विभाग द्वारा भेजी जाने वाले छात्रवृत्ति और पेंशन वितरण में विलंब भी हो रहा है।

भले ही आज के दौर में संचार की आधुनिक सुविधाओं के चलते अपनों की कुशल क्षेम जानने को लेकर लोगों की डाकघरों पर निर्भरता खत्म सी हो गयी हो लेकिन डाकघरों का महत्व आज भी है। मौजूदा समय में ग्रामीण क्षेत्रों में सरकारी छात्रवृत्ति और पेंशन पहुंचाने का जरिए डाक विभाग ही है। लेकिन डाक विभाग में कर्मचारियों की कमी बनी हुई है, जिससे कार्यों में विंलब हो रहा है।

डाक विभाग में कर्मचारियों की कमी लगातार बढ़ती जा रही है और काम का बोझ भी दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है। डाक विभाग को अब टेलिफोन बिल, बिजली बिल, समाज कल्याण विभाग द्वारा दी जाने वाली पेंशनें, छात्रवृत्ति आदि की जिम्मेदारी भी निभानी पड़ती हैं।

लेकिन पौड़ी डाकघर प्रखंड में कर्मचारियों का टोटा बना हुआ है, जिसके चलते कार्यों में अनावश्यक व्यवधान पैदा हो रहा है। प्रखंड में एचएसजी पोस्टमास्टर के तीन पदों के सापेक्ष मात्र एक ही तैनात हैं। आईपीओ निरीक्षक के 7 पदों के सापेक्ष महज तीन ही कार्यरत हैं। डाक सहायकों के192 पदों के सापेक्ष143 कार्यरत हैं। इसी प्रकार पोस्टमैन के 19 पद रिक्त हैं तो ग्रुप डी के 26 पद कर्मचारियों का इंतजार कर रहे हैं।

वहीं डाक अधीक्षक पौड़ी पीआर मलियाल का इस बारे में कहना है कि विभाग में रिक्त पदों के सापेक्ष भर्ती की प्रक्रिया जारी है और जल्द ही पदों पर कर्मचारियों की तैनाती हो जाएगी।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कर्मचारियों की कमी को झेल रहा है डाक विभाग