DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लड़कियों को उन्नीस सेंटरों पर दी जाएगी, व्यावसायिक शिक्षा

जिले के सभी एनपीजीईएल ब्लॉकों में लड़कियों के लिए व्यावसायिक शिक्षा शुरू की जा रही है। इसके लिए जिले के चारों एनपीजीईएल ब्लॉकों रजपुर, गढ़, धौलान और नगरक्षेत्र गाजियाबाद से 19 स्कूलों का चयन किया गया है। इन स्कूलों का चयन स्कूलों में पढ़ने वाली अल्पसंख्यक लड़कियों के आधार पर किया गया है।

इन19 सेंटरों में से रजपुर और गढ़ में 4, धौलाना में 5 तथा नगरक्षेत्र गाजियाबाद में 6 बनेंगे। वसे तो शासन की ओर से इन सेंटरों में बंधेज, ब्लॉक प्रिंटिंग, फोटोग्राफी, रेडियो, टीवी मरम्मत, ज्वेलरी मेकिंग, पुस्तकालय संचालन, बुक बाइंडिंग, स्क्रीन प्रिंटिंग, बुटीक, कला चित्रण, मोमबत्ती, अगरबत्ती बनाना, चॉक तथा चटाई बनाना, फल संरक्षण, नर्सरी तैयार करना, पुस्तक कला, धातु कला, मुर्ति कला, साफ्ट टॉयज मेकिंग, चर्मकला, बेकरी तथा कृषि पशुपालन, सिलाई मशीन मरम्मत, हैण्डपम्प मरम्मत, सामानों की पैकिंग, मूल्य निर्धारण, ब्यूटी कल्चर, संगीत-वाद्य यंत्र, नृत्य संगीत, नृत्य कला और मैकरम वर्क का ऑप्शन दिया गया है।

मगर शासन की ओर से कच्चे माल के लिए मिलने वाला पैसा इतना कम है कि उतने में इन सभी कोर्स को संचालित करना असंभव है। इस परेशानी को देखते हुए जिले के स्कूलों में बच्चों की रूझान को देखते हुए सिर्फ मोमबत्ती, अगरबत्ती बनाना तथा ब्यूटी कल्चर की क्लास शुरू करने की योजना बनाई है।

इस कोर्स के लिए शासन की ओर से दस हजार प्रति सेंटर मिला है। जिसमें से साढ़े सात हजार प्रशिक्षक के मानदेय के लिए और मात्र ढाई हजार कच्चे माल के लिए। बच्चों को सिखाने के लिए प्रशिक्षकों को किसी प्रशिक्षण संस्थान से लिया जाएगा। जिन्हें तीन माह में इस कोर्स में सौ घंटे की क्लास लेनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लड़कियों को उन्नीस सेंटरों पर दी जाएगी, व्यावसायिक शिक्षा