DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूखे से निराश किसानों को उत्साहित करेगी सरकार

 सूखे के संकट से निराश किसानों के लिए खुशखबरी! हाथ पर हाथ रखकर बैठने से कुछ नहीं होगा। कमर कसकर एकबार फिर उतरिये खेतों में और जुट जाइए अपने काम में। सरकार यह समझ गई है कि उसकी योजनाएं आपके पल्ले नहीं पड़ रही है। लिहाजा कृषि विभाग ने इस संकट से निजात दिलाने के लिए एक नई योजना बनाई है। अब अधिकारी सूखाग्रस्त घोषित जिलों के हर प्रखंड में जाएंगे। उनके साथ वैज्ञानिक भी होंगे।

हर प्रखंड में कार्यक्रम आयोजित कर वहां के किसानों को सरकार द्वारा बनाई गई योजनाओं की जानकारी दी जाएगी। वैज्ञानिक खेती की नई तकनीक की जानकारी तो देंगे ही सरकार द्वारा बनाई गई आकस्मिक फसल योजना के बारे में भी बतायेंगे। इस योजना में जिन फसलों का प्रावधान किया गया है उनमें कौन सी फसल वहां की मिट्टी और जलवायु के अनुकूल है इसकी भी जानकारी वैज्ञनिक देंगे। पशुपालन और खेतों में खड़ी फसल के बचाव के गुर भी सिखाये जाएंगे। हर जिले में कार्यक्रम की शुरुआत 24 अगस्त से हो जाएगी। रोज एक प्रखंड में शिविर आयोजित किये जाएंगे।

कृषि विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सूखाग्रस्त घोषित सभी 26 जिलों में किसानों की निराशा दूर करने के लिए सरकार ने यह योजना बनाई है। सरकार का मानना है कि उन जिले के किसान सरकार द्वारा बनाई गई आकस्मिक योजना का बहुत लाभ नहीं ले पा रहे हैं। आसमान निहार रहे किसान पारम्परिक खेती से अलग हटने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं।

इसी बात को ध्यान में रखकर उन्हें जागरूक बनाने की योजना बनाई गई है। हर जले में किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए शिविर आयोजित करने की तिथियां तय कर दी गई है। कृषि निदेशक बी. राजेन्द्र ने सभी जिलों को पत्र लिखकर कहा है कि अधिकारी तय समय सीमा में प्रखंडों में  शिविर के लिए तारीख तय कर लें। इस काम में जिलों में पदस्थापित कृषि वैज्ञानिकों के अलावा अवकाश प्राप्त कृषि अधिकारी या बेरोजगार कृषि स्नातकों की सेवा भी ली जा सकती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सूखे से निराश किसानों को उत्साहित करेगी सरकार