DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोहब्बत की नगरी में कांग्रेस से कुट्टी कर सकती है सपा

कांग्रेस से रिश्तों का भविष्य और बसपा के खिलाफ आंदोलन के कार्यक्रमों को मुख्य एजेंडा बनाकर समाजवादी पार्टी का तीन दिनी विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन 19 अगस्त से यहाँ मोहब्बत की नगरी में शुरू होगा। तीन दिन के अधिवेशन में पार्टी केन्द्र की यूपीए सरकार से समर्थन वापसी या जारी रखने के मुद्दे पर भी गंभीरता से विचार करेगी।

पार्टी के एजेंडों की जानकारी देते हुए सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने मंगलवार को यहाँ प्रेस कांफ्रेंस में कहा-केन्द्र को समर्थन भी अधिवेशन बुलाने का अहम एजेंडा है। हम इस मसले पर पार्टी के लोगों की भावनाएँ सुनेंगे। अधिवेशन का एक बड़ा उद्देश्य यह भी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस व बसपा दोनों जनता की उम्मीदों पर खरी नहीं उतरी हैं। ऐसे में समाजवादी आँखें मूँदे नहीं रह सकते।

जनता का मनोबल बढ़ाने के लिए जो जरूरी होगा पार्टी करेगी। विधानसभा के अगले चुनाव में कांग्रेस से किसी तरह के तालमेल की संभावना को नकारते हुए श्री यादव ने दोनों दलों के रिश्तों में आ चुकी खटास को सार्वजनिक करने से परहेज नहीं किया।  मायावती सरकार पर जमकर बरसते हुए श्री यादव ने कहा कि इस सरकार ने यूपी में 45 हजार एकड़ जमीन पर कब्जा कर लिया।

आठ करोड़ से ज्यादा पेड़ काट दिए गए। कांग्रेस की दिल्ली में सरकार है, वह चाहती तो हस्तक्षेप कर सकती थी। मगर कुछ नहीं किया। अकेले सपा कार्यकर्ताओं पर बसपा सरकार फर्जी मुकदमे लाद रही है। बाकी पार्टियाँ बसपा सरकार से लड़ती नहीं इसलिए सरकार के निशाने पर सपा है। उन्होंने कहा कि अगर अधिवेशन में आंदोलन की आम राय बनी तो उसका यहीं ऐलान होगा।

केन्द्र सरकार को हर मोर्चे पर फेल करार देते हुए सपा प्रमुख ने कहा कि संसद में प्रधानमंत्री यह नहीं बता सके कि भारत के मित्र राष्ट्र कौन हैं। फिल्म अभिनेता शाहरूख खान को अमेरिका में हवाई अड्डे पर रोक लिए जाने को उन्होंने मनमोहन सरकार की अमेरिका के सामने घुटने टेक देने का नतीजा ठहराया। उनसे पूछा गया कि अमर सिंह ने इसे पब्लिसिटी स्टंट कहा है, क्या वे इससे इत्तफाक रखते हैं? श्री यादव ने कहा कि श्री सिंह ने सही ही कहा होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आगरा में विशेष राष्ट्रीय अधिवेशन बुधवार से